ताज़ा खबर
 

गुजरात: ईसाइयों के कार्यक्रम के खिलाफ उतरे हिंदू संगठन, चर्च को देनी पड़ी सफाई- धर्मांतरण मकसद नहीं

विरोध कर रहे संगठन का कहना है कि कार्यक्रम का आयोजन करा रहा स्थानीय चर्च पहले स्पष्ट करे कि आयोजन धर्मांतरण के लिए नहीं किया जा रहा।

तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (फाइल फोटो)

गुजरात में ईसाई समुदाय के लिए आयोजित होने वाले एक कार्यक्रम से पहले आयोजनकर्ताओं को विश्व हिंदू परिषद (VHP) जैसे स्थानीय हिंदू संगठन के विरोध का सामना करना पड़ा रहा है। संगठन का कहना है कि कार्यक्रम का आयोजन करा रहा स्थानीय चर्च पहले स्पष्ट करे कि आयोजन धर्मांतरण के लिए नहीं किया जा रहा। दो दिवसीय कार्यक्रम गुरुवार और शुक्रवार के दिन होना है। हालांकि मामले में विवाद बढ़ता देख कार्यक्रम के प्रतिनिधि ने कहा कि कार्यक्रम महज स्थानीय ईसाइयों की सभा के लिए है। इसमें उन लोगों के लिए प्रार्थनाएं की जाएंगी जो केरल बाढ़ में मारे गए। ‘बरसो’ नाम का यह कार्यक्रम अहमदाबाद के मनीनगर में मुक्तजीव सभागार में होगा। यहां एक बड़ी ईसाई आबादी निवास करती है। जीजस मिशन चर्च के पादरी मुन्ना प्रसाद गुप्ता ने बताया कि कार्यक्रम के लिए बुकिंग करीब दो महीना पहले की गई थी। मगर मंगलवार को कुछ स्थानीय हिंदू संगठन के लोग कार्यक्रम स्थल पर प्रदर्शन करने लगे। विवाद बढ़ता देख हमने सभागार के मालिक को बुलाया और कार्यक्रम की डिटेल की जानकारी दी।

कार्यक्रम के आयोजनकर्ता गुप्ता ने आगे बताया कि करीब 500 लोग कार्यक्रम में भाग लेंगे, इसमें पादरी एल्विन थोमस भाग लेंगे और लोगों को संबोधित करेंगे। कार्यक्रम की जानकारी हमने सभागार के मालिक को पहले ही दे दी थी। इंडियन एक्सप्रेस ने जब मनीनगर के श्री स्वामीनारायण गढ़ी संस्थान से संबंध रखने वाले स्वामी भागवत प्रियादास व सभागार के मालिक से संपर्क साधा तो उन्होंने बताया, ‘विश्व हिंदू परिषद और हिंदू मंच के प्रतिनिधि मुझसे शिकायत करने आए थे। उन्होंने कहा कि वो डरे हुए क्योंकि ईसाई कार्यक्रम में धर्मांतरण होगा। मगर मैंने उन्हें बताया कि स्वामीनारायण भगवान ने खुले विचार रखने के लिए कहा है, कयोंकि हम सभी इंसान पहले हैं। मैंने उन्हें भरोसा दिलाया की कार्यक्रम में कोई धर्मांतरण नहीं होने जा रहा है।’ इसके अलावा गुजरात विहिप चीफ अशोक रावल ने मामले में प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि वो इस विरोध-प्रदर्शन का हिस्सा नहीं हैं। उन्होंने कहा कि ‘हम किसी भी कार्यक्रम के खिलाफ नहीं हो जो उनके कैंपस में हो रहे हैं।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 गुजरात: सचिवालय में घुस आया तेंदुआ, पकड़ने में जुटी 100 लोगों की टीम
2 स्टैच्यू ऑफ यूनिटी: सरदार पटेल के रिश्तेदार बोले- वह पैसों की कीमत समझते थे, मना कर देते
3 बीजेपी नेता को गैंगस्‍टर की धमकी- फोन का जवाब नहीं देगा तो भेजे में लगेगी