ताज़ा खबर
 

गुजरात: क्‍लर्क की परीक्षा में पूछा सवाल- अनशन पर बैठे हार्दिक पटेल को पानी किसने पिलाया?

पटेल समुदाय के 25 वर्षीय नेता का 19 दिन लंबा अनशन 21 सितंबर को समाप्त हुआ। पाटीदारों के लिए आरक्षण और कृषि कर्ज माफी की मांग को लेकर गुजरात सरकार और पटेल के बीच कोई बातचीत नहीं हुई।

Author Updated: September 17, 2018 3:37 PM
हार्दिक ने 25 अगस्त को यहां स्थित अपने आवास पर पाटीदारों को अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) श्रेणी में आरक्षण और गुजरात के किसानों का कृषि कर्ज माफ करने की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल शुरू की थी। (ANI PHOTO)

गांधीनगर नगर निकाय में लिपिक पदों के लिए रविवार (16 सितंबर, 2018) को आयोजित एक प्रतियोगिता परीक्षा में भाग लेने वाले अर्भ्यिथयों से पाटीदार नेता हार्दिक पटेल से संबंधित प्रश्न पूछा गया। परीक्षा में पूछा गया सवाल उनके अनशन से संबंधित था। प्रश्न बहुवैकल्पिक था। इसमें पूछा गया- हाल ही में अनशन पर बैठे हार्दिक पटेल को किस नेता ने पानी पिलाने की पेशकश की? परीक्षार्थियों को इसके लिए चार विकल्प दिये गये थे जो इस प्रकार थे- शरद यादव, शत्रुघ्न सिन्हा, लालू प्रसाद और विजय रुपाणी। इस सवाल का सही जवाब शरद यादव है।

बता दें कि पटेल समुदाय के 25 वर्षीय नेता का 19 दिन लंबा अनशन 21 सितंबर को समाप्त हुआ। पाटीदारों के लिए आरक्षण और कृषि कर्ज माफी की मांग को लेकर गुजरात सरकार और पटेल के बीच कोई बातचीत नहीं हुई। उपवास खत्म करने के बाद आरक्षण समर्थक नेता ने कहा, ‘‘अपने समुदाय के लिए आरक्षण और कृषि कर्ज माफी के लिए लड़ाई जारी रहेगी।’ हार्दिक ने 25 अगस्त को यहां स्थित अपने आवास पर पाटीदारों को अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) श्रेणी में आरक्षण और गुजरात के किसानों का कृषि कर्ज माफ करने की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल शुरू की थी।

बाद में इसमें उनके सहयोगी अल्पेश कठेरिया को रिहा करने की मांग भी जोड़ दी गई, जिसे राजद्रोह के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। बाद में तबीयत बिगड़ने के बाद 25 वर्षीय हार्दिक पटेल को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। अस्पताल में दो दिन रहने के बाद वह अपने घर लौट आए थे और उन्होंने अपनी भूख हड़ताल जारी रखी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 महात्‍मा गांधी ने की थी स्‍थापना, अब वही प्रेस छाप रही नरेंद्र मोदी की किताबें