ताज़ा खबर
 

21 साल की उम्र में पास किए सीए, सीएस और सीएमए के एग्जाम, बनाया रिकॉर्ड

12वीं क्लास पास करने के बाद झावर ने 15 साल की उम्र में सीए के साथ अपनी हायर स्टडीज शुरू की थी और इसकी सभी परीक्षाएं पास की थीं।

झावर को सूरत के सीए रवि छावछरिया ने ट्रेनिंग दी है। वह इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी (इग्नू) से बैचलर ऑफ कॉमर्स (B.Com) कर रहे हैं।

गुजारत के सूरत के आदित्य झावर ने महज 21 साल की उम्र में ही चार्टर्ड अकाउंटेंसी (CA), कंपनी सेक्रटरी (CS) और कॉस्ट ऐंड मैनेजमेंट अकाउंटेंसी (CMA) की परीक्षा पास कर ली है। आदित्य ऐसा करने वाले सबसे कम उम्र के भारतीय बन गए हैं। इससे पहले यह रिकॉर्ड दिल्ली के सार्थक आहुजा और पल्लवी सचदेवा के नाम था। इन दोनों ने 23 साल की उम्र में सीए, सीएस और सीएमए की परीक्षा पास कर ली थी, लेकिन अब सीएमए फाइनल एग्जाम पास करने के साथ ही आदित्य झावर ने उन सभी को पीछे छोड़ दिया है। सीएमए का रिजल्ट शनिवार (26 अगस्त) को आया था। 12वीं क्लास पास करने के बाद झावर ने 15 साल की उम्र में सीए के साथ अपनी हायर स्टडीज शुरू की थी और इसकी सभी परीक्षाएं पास की थीं। उन्होंने इसके साथ सीएस भी शुरू किया और सीए के साथ इसे भी पास कर लिया। उसके बाद उन्होंने सीएमए के लिए तैयारी शुरू की और इसे भी पास कर लिया।

झावर को सूरत के सीए रवि छावछरिया ने ट्रेनिंग दी है। वह इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी (इग्नू) से बैचलर ऑफ कॉमर्स (B.Com) कर रहे हैं। आदित्य बीकॉम के फाइनल रिजल्ट की प्रतीक्षा कर रहे हैं। झावर के पिता महेश झावर एक कपड़ा व्यापारी हैं। उन्होंने भी सीए की सेकेंड स्टेज पास कर रखी है, लेकिन फैमिली बिजनेस में लगने के कारण सीए फाइनल नहीं कर सके। झावर की मां पिछले 25 सालों से एक स्कूल में टीचर है।

हालांकि सीए कोर्स को क्लीयर करना आसान नहीं माना जाता है। यह सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक है। इसमें स्टूडेंट्स को फाउंडेशन, आईपीसीसी और फाइनल तीन स्टेज को क्लीयर करने के साथ आर्टिकलशिप करनी पड़ती है। हर साल वित्तीय दुनिया में लगातार हो रहे बदलावों को देखते हुए भारतीय चार्टर्ड अकाउंटेंट्स संस्थान (आईसीएआई) ने सीए परीक्षा के पाठयक्रम में बड़े बदलाव किए हैं। आईसीएआई पाठयक्रम में सुधार करने और नए विषय शामिल करने के साथ ओपन बुक टेस्ट भी शुरू की गई है। चार्टर्ड अकाउंटेंसी कोर्स तीन स्टेज में बंटा होता है। इसमें पहला कॉमन प्रोफिसिएंसी टेस्ट यानी सीपीटी होता है। दूसरा इंटीग्रेटिड प्रोफेशनल काम्पीटेंसी कोर्स (आईपीसीसी) और तीसरी अंतिम परीक्षा होती है। सीटीपी को और कठिन किया जा रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App