ताज़ा खबर
 

गुजरात दंगा: माया कोडनानी नहीं दिलवा सकीं अमित शाह की गवाही, कोर्ट ने दिया आखिरी मौका

माया कोडनानी ने कहा था कि उन्हें ये तय करने में कठिनाई हो रही है कि अमित शाह को किस पते पर समन भेजा जाए।

maya kodnani, gujarat riot 2002, 2002 gujarat riots, amit shah, naroda pattiya massacre, naroda gam case, gujarat, godhara riot, gujarat news, hindi news, jansattaनरोदा गाम केस में माया कोडनानी अमित शाह को बतौर गवाह पेश करना चाहती हैं।

गुजरात सरकार की पूर्व मंत्री माया कोडनानी के पास अमित शाह को गवाही के लिए बुलाने का आखिरी मौका बचा है। विशेष अदालत ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को अदालत में गवाही के लिए लाने के लिए माया कोडनानी को आखिरी मौका दिया। माया कोडनानी अपने पक्ष में अमित शाह को गवाही देने के लिए अदालत बुलाना चाहती है, इसके लिए वो कोर्ट से समय भी मांग चुकी है, लेकिन माया कोडनानी अब तक अपने पक्ष में गवाही के लिए अमित शाह को कोर्ट आने के लिए राजी नहीं कर सकी है। ये मामला गुजरात दंगों के दौरान नरोदा पटिया हत्याकांड से जुड़ा हुआ है। अदालत ने कहा कि अगली तारीख तक अगर माया कोडनानी अमित शाह को गवाही के लिए कोर्ट में पेश नहीं कर पाती हैं तो मुकदमे की सुनवाई टाली नहीं जाएगी। माया कोडनानी ने अदालत से और वक्त मांगा है ताकि वो अमित शाह का एड्रेस पता कर सके और उन्हें कोर्ट के सामने पेश होने के लिए कह सके।

माया कोडनानी ने सोमवार (4 सितंबर) को विशेष कोर्ट से कहा था कि उसे अमित शाह से संपर्क करने के लिए अधिक वक्त चाहिए ताकि उन्हें समन दिया जा सके और अदालत में हाजिर होने के लिए कहा जा सके। अदालत को लिखे अपने आवेदन में माया ने कहा था कि अमित शाह के व्यस्त कार्यक्रमों की वजह से उनसे संपर्क साधना मुश्किल हो रहा है। माया ने कहा था कि उन्हें ये तय करने में कठिनाई हो रही है कि अमित शाह को किस पते पर समन भेजा जाए। माया कोडनानी ने अदालत से इसके लिए 12 सितबंर तक का समय मांगा था। विशेष जज पीबी देसाई ने उन्हें अमित शाह को गवाही के लिए पेश करने के लिए 8 सितंबर तक का समय दिया था। शुक्रवार 8 सितंबर को भी माया कोडनानी उन्हें अदालत के सामने नहीं ला सकी इसके बाद उन्होंने अदालत से और भी वक्त मांगा है।

पिछले महीने सुप्रीम कोर्ट ने विशेष न्यायालय को आदेश जारी कर कहा था कि नरोदा गाम केस की सुनवाई 4 महीनें में पूरी कर दी जाए। नरोदा गाम केस की आरोपी माया कोडनानी ने ये साबित करने के लिए कि, 28 फरवरी 2002 को जिस दिन गुजरात दंगे भड़के थे उस दिन वो घटनास्थल पर मौजूद नहीं थी, अमित शाह समेत 14 लोगों की गवाही की मांग की थी। इसमे से 12 लोग माया कोडनानी के पक्ष में गवाही दे चुके हैं. इनमें उनके पति सुरेन्द्र कोडनानी, बीजेपी के पूर्व पार्षद दिनेश मकवाना, पूर्व बीजेपी विधायक अमरीश गोविंद भाई शामिल है। इस घटना में मुस्लिम समुदाय के 11 लोगों की जान गई थी। इस केस में 82 लोग आरोपों का सामना कर रहे हैं इनमें से माया कोडनानी भी एक हैं। 2012 में नरोदा पाटिया केस में अदालत माया कोडनानी को उम्र कैद की सजा सुना चुका है। माया और दूसरे 31 आरोपियों ने इस फैसले को गुजरात हाईकोर्ट में चुनौती दी है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बोले राहुल- गुजरात में केवल उसी को दूंगा ट‍िकट जो बीजेपी, आरएसएस से लड़ा हो
2 मिशन गुजरात: राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर बोला हमला, कहा- नोटबंदी, जीएसटी से छोटे कारोबारी बर्बाद, विकास दर भी गिरी
3 तेज हवा से फटा गुजरात का सबसे ऊंचा तिरंगा, दर्जी को बुला ऑन द स्पॉट सिलवाया
अयोध्या से LIVE
X