ताज़ा खबर
 

‘बंद करो सब’, नाराज मंत्री के कहते ही एसबीआई ब्रांच ने बंद किया कामकाज

वहीं इस पूरी घटना पर मंत्री जयेश रदादिया ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत के दौरान कहा कि "एसबीआई की यह शाखा किसानों के साल 2016-17 के फसल बीमा के चेक क्लीयर करने में नाकाम रही है।

Author August 28, 2018 9:32 AM
गुजरात सरकार के मंत्री जयेश रदादिया। (express photo)

गुजरात सरकार में नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता मामलों के मंत्री जयेश रदादिया ने सोमवार को स्टेट बैंक की राजकोट स्थित एक ब्रांच को बंद करने का आदेश दिया और मंत्री के इतना कहते ही बैंक कर्मियों ने भी कामकाज बंद कर दिया। दरअसल मंत्री स्थानीय किसानों को फसल बीमा ना दिए जाने से नाराज थे और इसी नाराजगी में उन्होंने ब्रांच में कामकाज बंद करने का फरमान सुना दिया था। बता दें कि यह घटना राजकोट जिले के जेतपुर इलाके की है, जहां जूनागढ़ रोड़ पर एसबीआई की ब्रांच स्थित है। सोमवार की दोपहर मंत्री जयेश रदादिया कुछ किसानों के साथ बैंक पहुंचे और बैंक अधिकारियों से किसानों के फसल बीमा चेक क्लीयर करने को कहा। इस पर बैंक अधिकारियों ने उन्हें बताया कि फसल बीमा के दावों पर कारवाई की जा रही है। इससे जयेश रदादिया बेहद नाराज हो गए और उन्होंने बैंक को बंद करने का आदेश दे दिया।

इस घटना का वीडियो भी न्यूज चैनलों पर दिखाया जा रहा है, जिसमें मंत्री जयेश रदादिया बैंक में कामकाज बंद करने को कहते सुनाई दे रहे हैं। वहीं मंत्री के जाते ही बैंक कर्मियों ने भी कामकाज बंद कर दिया और शाम के समय बैंक पब्लिक के लिए बंद रहा। वहीं इस पूरी घटना पर मंत्री जयेश रदादिया ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत के दौरान कहा कि “एसबीआई की यह शाखा किसानों के साल 2016-17 के फसल बीमा के चेक क्लीयर करने में नाकाम रही है। किसानों ने वक्त पर अपना प्रीमियम दिया। अब 10 माह बाद जब किसानों का पैसा नहीं दिया जा रहा है। इलाके का जन प्रतिनिधि होने के नाते ये मेरी जिम्मेदारी है कि मैं लोगों का पक्ष रखूं। रदादिया ने कहा कि एसबीआई की जूनागढ़ रोड स्थित ब्रांच में करीब 150 किसानों का फसल बीमा का पैसा फंसा हुआ है, जो कि 1.75 करोड़ रुपए है। खास बात ये है कि जेतपुर स्थित एक अन्य एसबीआई ब्रांच में किसानों का फसल बीमा का पैसा दे दिया गया है, लेकिन जूनागढ़ रोड स्थित ब्रांच इसमें आनाकानी कर रही है।”

गुजरात सरकार में मंत्री जयेश रदादिया ने दावा किया कि करीब 3 माह पहले उन्होंने किसानों और बैंक अधिकारियों के साथ जूनागढ़ स्थित एसबीआई की ब्रांच में एक बैठक की थी। उस वक्त बैंक अधिकारियों ने उन्हें बताया था कि वह इंश्योरेंस कंपनी के साथ संपर्क कर जल्द ही बाकी बचे फसल बीमा को क्लीयर करने को कहेंगे। जब मैं अब बैंक ब्रांच गया तो बैंक अधिकारियों ने फिर से एक बार वही जवाब दिया। ऐसा हमेशा नहीं चल सकता। दर्जनों गांवों के किसान अपने फसल बीमा का इंतजार कर रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ बैंक ब्रांच मैनेजर रवि परमार का इस पूरे मुद्दे पर कहना है कि “इस संबंध में मंत्री के खिलाफ पुलिस में कोई शिकायत दर्ज नहीं करायी गई है। मैं छुट्टियों पर था और अभी जेतपुर लौटा हूं।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App