ताज़ा खबर
 

गुजरात दंगों से चर्चा में आए अशोक परमार ने खोली ‘एकता चप्पल शॉप’, कुतुबुद्दीन अंसारी से करवाया उद्घाटन, कही दिल जीतने वाली बात

Gujarat Riots 2002: अशोक परमार ने कहा, '2014 में हमें एक सेमिनार में बुलाया गया था, जहां हम दोस्त बन गए। उन्होंने एक किताब लिखी थी जिसका विमोचन मैंने किया था। अब मैंने उनसे अपनी दुकान का उद्घाटन करने का निवेदन किया था।

गुजरात दंगों के दौरान का एक पोस्टर (फोटो-एएनआई)

2002 के गुजरात दंगों का दर्दनाक मंजर भूल पाना अभी भी मुश्किल है। हर किसी की आंखों में वो खौफनाक दृश्य ताजा हैं। इसी बीच गुजरात से एक सुकून देने वाली खबर आई है। इस नरसंहार से चर्चा में आए दो चेहरे साथ-साथ दिखे हैं। इनमें एक नाम अशोक परमार का है और दूसरा कुतुबुद्दीन अंसारी का है। दरअसल 19 साल बाद दोनों ने ऐसा संदेश दिया है जिसे समझकर आप भारत की गंगा-जमुनी तहजीब को समझ सकते हैं।

दुकान का नाम- एकता चप्पल शॉपः दरअसल अहमदाबाद में अशोक परमार ने एक दुकान खोली है, जिसका उद्घाटन करने के लिए उन्होंने कुतुबुद्दीन अंसारी को बुलाया। परमार ने अपनी दुकान का नाम ‘एकता चप्पल शॉप’ रखा है। दुकान के उद्घाटन के बाद दोनों ने सांप्रदायिक सद्भाव और भाईचारे की मिसाल पेश की है।

Gujarat Riots Poster boys गुजरात दंगों का चेहरा बने अशोक परमार और कुतुबुद्दीन अंसारी (फोटो- एएनआई)

पहले बुक लॉन्च, अब दुकान का उद्घाटनः अशोक परमार ने कहा, ‘2014 में हमें एक सेमिनार में बुलाया गया था, जहां हम दोस्त बन गए। उन्होंने एक किताब लिखी थी जिसका विमोचन मैंने किया था। अब मैंने उनसे अपनी दुकान का उद्घाटन करने का निवेदन किया था। इसका नाम इस बात का संदेश है कि आज का अहमदाबाद पहले से काफी अलग है। आज हिंदू-मुस्लिम यहां प्रेम और भाईचारे से मिलकर साथ रहते हैं।’

National Hindi Khabar, 10 September 2019 LIVE News Updates: देश-दुनिया की ताजा खबरों के लिए क्लिक करें

Madhya Pradesh Rains, Weather Forecast Today Live Updates: भारी बारिश से आफत, पढ़ें ताजा जानकारी

अंसारी ने बताई भारत की पहचानः वहीं दुकान का उद्घाटन करने के बाद कुतुबुद्दीन अंसारी ने कहा, ‘अशोक भाई ने मुझे दुकान का उद्घाटन करने बुलाया था। मैंने उन्हें बधाई दी और वहां से शॉपिंग भी की। वक्त हर मर्ज की दवा है, यदि हम वहीं अटके रहते तो कभी आगे नहीं बढ़ते। हमारी सोसायटी में लोग एक-दूसरे के लिए सोचते हैं, यही भारत की पहचान है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 मुंबईः 20वीं बार मां बनने जा रही 38 वर्षीय महिला, पहली बार अस्पताल में देगी बच्चे को जन्म
2 करगिल वॉर में पाक को पस्त करने वाली स्क्वाड्रन सबसे पहले उड़ाएगी Rafale, एयर चीफ मार्शल रह चुके हैं इसके विंग कमांडर