ताज़ा खबर
 

RSS से जुड़ी संस्‍था का संस्‍कृत अधिवेशन, सदस्‍यों के लिए तय की गईं शर्तें पूरी करना अनिवार्य

संस्कृत भारती के इस अधिवेशन में इस बार 1000 से अधिक सदस्यों के जुटने की उम्मीद है।

Author November 30, 2018 11:13 AM
तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (एक्सप्रेस फोटोः गुरमीत सिंह)

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़ी संस्था संस्कृत भारती दूसरी बार संस्कृत अधिवेशन का आयोजन करने जा रही है। संस्था ने 24 और 25 दिसंबर को होने वाले इस कार्यक्रम में सदस्यों के लिए कुछ शर्तें तय की हैं। इनमें से किसी एक को सदस्य द्वारा पूरी करना अनिवार्य होगा, जिसके बाद ही वे गांधीनगर के पास होने वाले इस दो दिवसीय अधिवेशन में हिस्सा ले पाएंगे। शर्तों में- संस्कृत भारती द्वारा प्रकाशित की जाने वाली पुस्तकें और मैग्जीनें पाठकों को बेचना, पत्राचार संस्कृत पाठ्यक्रम में कम से कम एक छात्र का दाखिला कराना, संस्था के शिविर कराना और कम से कम पांच प्रसिद्ध लोगों को संस्कृत भारती के कामों व उद्देश्य के बारे में जागरूक करना, जैसी चीजें शामिल हैं।

संस्कृत भारती के इस अधिवेशन में इस बार 1000 से अधिक सदस्यों के जुटने की उम्मीद है, जबकि साल 2015 में पहले आयोजन में तकरीबन 500 सदस्यों ने हिस्सा लिया था। संस्कृत भारती में अहमदाबाद सिटी आर्गनाइजर सुकुमार त्रिवेदी ने बताया, “ये शर्तें संस्कृत के प्रचार-प्रसार को ध्यान में रखकर तय की गई हैं, जिन्हें अधिवेशन के पंजीकरण से पहले सदस्यों को पूरी करना होगा। इन शर्तों को पूरा कर वे आत्मविश्वास और इस बात पर गर्व महसूस करेंगे कि उन्होंने संस्कृत के प्रसार के लिए ये सब किया।”

सदस्यों को संस्कृत भारती द्वारा प्रकाशित संस्कृतम् वदतु भी कम से कम पांच लोगों को बेचनी होगी, जिसमें रोजमर्रा में इस्तेमाल होने वाले शब्द व वाक्य संस्कृत में होते हैं। यह किताब पांच रुपए की है। संगठन के सदस्यों को इसके अलावा मासिक पत्रिका संभाषण संदेश (संस्था का दूसरा प्रकाशन) के लिए एक नया ग्राहक तैयार करने के लिए कहा गया है।

शर्तों की सूची में एक छात्र को संस्कृत का कोर्स (पत्राचार से) कराना भी शामिल है, जिसकी फीस 300 रुपए है। यही नहीं, सदस्यों को एक संस्कृत सभाषण शिविर भी कराना होगा, जो कि वे अपने घर या किसी अन्य जगह पर आयोजित करा सकेंगे। दस दिनों वाला यह शिविर निःशुल्क होगा, जिसमें विभिन्न उम्र के लोगों को संस्कृत की बारीकियां व उसमें बात करना भी सिखाया जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App