ताज़ा खबर
 

गुजरात: सरकारी प्रोजेक्ट की आलोचना पर पत्रकार और उसके परिवार पर हमला

पीड़ित के मुताबिक, आरोपी उसके अखबार में छपी उस खबर से नाराज था, जिसमें भगडावाड़ा में तालाब बनवाने से जुड़े प्रोजेक्ट में कथित तौर हुए अप्रभावी काम की आलोचना की गई थी।

Author नई दिल्ली | July 9, 2019 9:45 AM
पीड़ित के समर्थन में कई पत्रकारों ने विरोध प्रदर्शन किया।

गुजरात के वलसाड में एक गुजराती अखबार के ब्यूरो चीफ, उसकी पत्नी और डेढ़ साल की बेटी पर हमला होने की बात सामने आई है। आरोप है कि पूर्व सरपंच और उसके दो साथियों ने उनपर शनिवार रात हमला किया। इससे पहले, पत्रकार ने आरोपी द्वारा पूरा करवाए गए एक सरकारी प्रोजेक्ट की आलोचना करते हुए एक रिपोर्ट अखबार में प्रकाशित की थी। पुलिस ने इस मामले में एक शख्स को गिरफ्तार किया है।

34 साल के हर्षद अहीर गुजरात मित्र अखबार के शहर ब्यूरो चीफ हैं। वह अपनी पत्नी 30 वर्षीय केतना और बच्ची के साथ वलसाड के भगडावाड़ा में रहते हैं। मुख्य आरोपी की पहचान धर्मेश पटेल के तौर पर हुई है, जो भगडावाड़ा गांव का प्रधान रह चुका है। इसके अलावा, उसके सहयोगी जयदेव देसाई और सागर पटेल भी आरोपी हैं। वलसाड के एसपी ने बताया, ‘पत्रकार पर पूर्व सरपंच और उसके सहयोगियों ने हमला किया। हमने जयदेव को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि बाकी दो फरार चल रहे हैं।’ पीड़ित के मुताबिक, आरोपी उसके अखबार में छपी उस खबर से नाराज था, जिसमें भगडावाड़ा में तालाब बनवाने से जुड़े प्रोजेक्ट में कथित तौर हुए अप्रभावी काम की आलोचना की गई थी।

हर्षद ने कहा, ‘करीब 5 साल पहले, सुंदरीकरण अभियान के तहत तालाब के एक तरफ दीवार खड़ी की गई। कुर्सियों की भी व्यवस्था की गई और एक बगीचा भी बनवाया गया। उस वक्त धर्मेश उप सरपंच था और वह उस प्रोजेक्ट का इनचार्ज था। बाद में वह सरपंच बना। हालांकि, हालिया बारिश में करीब-करीब सभी चीजों को नुकसान पहुंचा। इसलिए मैंने एक स्टोरी की और इन बातों को उठाया। शनिवार रात सवा 10 बजे के करीब धर्मेश समेत 5 लोग मेरे अपार्टमेंट में इकठ्ठे हो गए और मुझे नीचे आने के लिए कहा। जब मैंने इनकार किया तो धर्मेश, जयदेव और सागर ऊपर आए और जबरन मेरे अपार्टमेंट में घुस आए। उन्होंने मुझसे और मेरी पत्नी से मारपीट की और मेरी नवजात बेटी को लात मारी।’ पत्रकार के मुताबिक, आरोपियों ने जान से मारने की धमकी भी दी।

उधर, इस हमले की निंदा करते हुए वलसाड के 60 से ज्यादा पत्रकारों ने जिला कलेक्टर और एसपी से मिलकर एक ज्ञापन सौंपा और आरोपियों के खिलाफ कड़ा ऐक्शन लेने की मांग की। सूत्रों के मुताबिक, पत्रकार की छापी फोटो स्टोरी में तालाब को हुए नुकसान के लिए किसी को जिम्मेदार नहीं ठहराया गया था, लेकिन किसी तरह के भ्रष्टाचार का संदेह जताया गया था। सूत्रों के मुताबिक, धर्मेश वलसाड तालुका का 2016 तक बीजेपी अध्यक्ष भी रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App