ताज़ा खबर
 

गुजरात उपचुनाव लड़ रहे बीजेपी उम्‍मीदवार का दावा- मुझे विधायकी छोड़ने के लिए मिला था 52 करोड़ का ऑफर

बीजेपी के टिकट पर कर्जन सीट से चुनाव लड़ रहे कांग्रेस विधायक अक्षय पटेल ने एक टीवी चैनल को बताया कि उन्हें पिछले दिनों अपने पद को छोड़ने के लिए 52 करोड़ रुपये की पेशकश की गई थी।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: October 19, 2020 10:08 AM
congress, gujrat, rajyasabha, bypollजून में विधानसभा से इस्तीफा देने के बाद बीजेपी के टिकट पर कर्जन सीट से चुनाव लड़ रहे कांग्रेस विधायक अक्षय पटेल। (file)

गुजरात उपचुनाव के एक उम्मीदवार ने दावा किया है कि उन्हें विधायकी छोड़ने के लिए चार महीने पहले 52 करोड़ रुपये की पेशकश की गई थी। मामला सामने आने के बाद राज्य में एक बार फिर सियासत गरम हो गई है। इसके अलावा कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने भाजपा पर कांग्रेस विधायकों को खरीदने का आरोप लगाया है।

राज्यसभा चुनाव से ठीक पहले जून में विधानसभा से इस्तीफा देने के बाद बीजेपी के टिकट पर कर्जन सीट से चुनाव लड़ रहे कांग्रेस विधायक अक्षय पटेल ने एक टीवी चैनल को बताया कि उन्हें पिछले दिनों अपने पद को छोड़ने के लिए 52 करोड़ रुपये की पेशकश की गई थी। पटेल ने कहा ” कांग्रेस नेता परेश धनानी कहते हैं मुझे 16 करोड़ रुपये में खरीदा गया है। मैं उनको बता दूं इस बारे में अपने पास कम ज्ञान है। मुझे तो पिछले दिनों एक फार्म हाउस में मीटिंग के दौरान 52 करोड़ रुपये की पेशकश की गई थी। लेकिन मैंने वह ऑफर ठुकरा दिया।”

अक्षय पटेल ने कहा “मैं इन सब धंधों में नहीं हूं। अब तक जो भी मैंने कमाया है वह मेरे व्यवसाय के माध्यम से है। मेरे पास चीनी मिलें हैं।” गुजरात में भाजप को तीसरी राज्यसभा सीट जीतने के लिए इस्तीफा देने वाले आठ कांग्रेस विधायकों में से पाँच उपचुनाव लड़ रहे हैं।

हालांकि पटेल ने यह स्पष्ट नहीं किया कि यह ऑफर उन्हें किसने दिया था, कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी का कहा है कि एक विधायक को 52 करोड़ रुपये का इतना बड़ा ऑफर गुजरात और देश में राज करने वाली पार्टी के अलावा और कौन दे सकता है। हमने देखा कि अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, गोवा, कर्नाटक और मध्य प्रदेश में क्या हुआ है।

संघवी ने कहा ” गुजरात में विधायिका भाजपा का मोहरा बन गई है। भाजपा के लिए यह एक व्यावसायिक खेल है, जिसमें तीन ‘टी’ शामिल हैं। ये तीन टी हैं, विधायकों के साथ ट्रेडिंग, ट्रैफिकिंग और ट्रांसेक्शनिंग।” कांग्रेस नेता ने कहा कि हमने देखा है कि कैसे कांग्रेस की ताकत को कम करने के लिए विधायकों को लालच देकर गुजरात में राज्यसभा चुनावों में हेरफेर किया गया था। पीएम नरेंद्र मोदी कहते हैं “न खाऊँगा न खाने दूंगा। लेकिन भाजपा ने लोकतंत्र को व्यावसायिक खेल बना दिया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 UP में खाकी शर्मसारः घर में घुस महिला को लात-घूंसे से पीटने का आरोप! वायरल VIDEO में जुल्म के बीच बच्चे बिलखते पर न आया तरस
2 बिहार चुनाव में बीजेपी के लिए क्यों वीआईपी हो गए मुकेश सहनी, समझिए गणित
3 J&K भाजपा प्रमुख बोले-अब अक्साई चीन, गिलगित बाल्टिस्तान को आजाद कराने का वक्त
यह पढ़ा क्या?
X