ताज़ा खबर
 

गुजरात में हो रही थी पानी की चोरी, सरकार ने पकड़ा तो 18 लोगों पर किया केस

गुजरात के जामनगर जिले के जामजोधपुर इलाके में 18 किसानों के द्वारा कथित तौर पर सरकारी पाइपलाइन से पानी चुराने पर पुलिस ने मामला दर्ज किया है। पुलिस में दर्ज शिकायत के मुताबिक आरोपी किसान गुजरात वॉटर सप्लाई एंड सीवरेज बोर्ड (जीडब्ल्यूएसएसबी) की पाइपलाइन से पानी चुरा रहे थे।

Author April 16, 2018 19:17 pm
गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी। (फोटो सोर्स- पीटीआई)

गुजरात के जामनगर जिले के जामजोधपुर इलाके में 18 किसानों के द्वारा कथित तौर पर सरकारी पाइपलाइन से पानी चुराने पर पुलिस ने मामला दर्ज किया है। पुलिस में दर्ज शिकायत के मुताबिक आरोपी किसान गुजरात वॉटर सप्लाई एंड सीवरेज बोर्ड (जीडब्ल्यूएसएसबी) की पाइपलाइन से पानी चुरा रहे थे। मामला उस वक्त सामने आया जब शनिवार (14 अप्रैल) को मौके पर जांच कराई गई। जीएसडब्ल्यूएससबी राज्य में पेयजल की सप्लाई करने और स्वच्छता कायम रखने की सुविधाएं मुहैया कराने वाली सरकारी इकाई है। बोर्ड के डिप्टी एक्जिक्यूटिव इंजीनियर जयदेव सिहोरा ने 18 किसानों के खिलाफ सरकारी पाइपलाइन से पानी चुराने के मामले में पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। शिकायत के आधार पर पुलिस ने भारतीय दंड संहिता की धारा 379 (चोरी), 427 (शरारत के कारण 50 रुपये तक के नुकसान), 430 (पानी की धारा गलत तरीके से मोड़कर सिंचाई के लिए शरारत करना), 114 (साझा इरादे) और सार्वजनिक जगह को नुकसान पहुंचाने के अंतर्गत मामला दर्ज किया गया है। जामजोधपुर पुलिस थाने के इंस्पेक्टर जीवाजी भगोरा ने बताया कि आरोपियों ने पीने का पानी सप्लाई करने वाली सरकारी पाइपलन से एक पाइप जोड़ लिया था, जिससे वे अपने खेतों सिंचाई कर रहे थे।

खबर लिखे जाने तक पुलिस ने मामले में किसी की गिरफ्तारी नहीं की थी। देवभूमि द्वारका में जीडब्ल्यूएसएसबी की डिवीजन खांभलिया के एक्जिक्यूटिव इंजीनियर पंकज नागर ने बताया- ”हमारे स्टाफ ने पाया कि आरोपियों ने पीने के पाने वाली एनसी- 21 बल्क वॉटर पाइपलाइन में तीन इंच के डाईमीटर वाले वाल्व को लगा दिया था, जिससे वे सिंचाई के लिए पानी निकाल रहे थे।” इंजीनियर ने बताया कि उन्हें नहीं पता कि यह पानी की चोरी कब से हो रही थी। हर बार गर्मियों में लगभग पूरा सौराष्ट्र पीने के पानी के सिए नर्मदा के पानी पर निर्भर करता है। यह घटना ऐसे समय सामने आई है जब नर्मदा नदी के सरदार सरोबर बांध में पानी निचले स्तर पर दर्ज किया गया है।

वहीं, गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने एक कार्यक्रम में कहा कि इन गर्मियों में पीने के पानी की कमी नहीं होगी। उन्होंने यह भी दोहराया कि राजकोट शहर में किसी प्रकार की पानी की कटौती नहीं थोपी गई है। विजय रूपाणी ने कहा- ”हमने नर्मदा के पानी को आजी बांध में पहुंचाया है, जो कि 31 जुलाई तक पर्याप्त होगा। हालांकि मैंने राजकोट के मेयर को आश्वस्त किया है कि अगर जरूरत पड़ी तो हम आजी बांध में और पानी पहुंचाएंगे। लेकिन शहर के लिए सप्लाई किए जाने वाले पानी में से एक बूंद की भी कटौती नहीं की जाएगी।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App