ताज़ा खबर
 

जिला अदालत में दादा थे चौकीदार और पिता ड्राइवर, बेटे ने पास की जज की परीक्षा

चेतन बजाड़ ने कहा, मेरे पिता का हमेशा से सपना था कि उनके तीन बेटों में से एक बेटा जज बने। आखिरकार मैंने उनका यह सपना पूरा कर दिया ।

Author भोपाल | Updated: August 22, 2019 3:48 PM
चेतन बजाड़। फोटो सोर्स: फेसबुक प्रोफाइल

गुदड़ी के लालों के लिये प्रेरणा की नजीर पेश करते हुए मध्यप्रदेश में 26 वर्षीय युवक ने सिविल जज वर्ग-दो की भर्ती परीक्षा में कामयाबी हासिल की है। खास बात यह है कि इस युवक के पिता जिला अदालत में ड्राइवर के रूप में पदस्थ हैं, जबकि उसके दादा अदालत में चौकीदार रह चुके हैं।

मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय की जबलपुर स्थित परीक्षा इकाई की बुधवार को घोषित अस्थायी चयन सूची के मुताबिक, सिविल जज वर्ग-दो की भर्ती परीक्षा में चेतन बजाड़ (26) ने अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) में 13वां रैंक हासिल किया है। उन्हें लिखित परीक्षा और साक्षात्कार में 450 अंकों में से कुल 257.5 अंक मिले हैं।

National Hindi News, 22 August 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की तमाम अहम खबरों के लिए क्लिक करें 

बजाड़ ने बृहस्पतिवार को पीटीआई को बताया कि, “मेरे पिता गोवर्धनलाल बजाड़ इंदौर की जिला अदालत में ड्राइवर हैं। मेरे दादा हरिराम बजाड़ इसी अदालत से चौकीदार के पद से सेवानिवृत्त हुए हैं।” 26 वर्षीय युवक ने कहा, “मेरे पिता का हमेशा से सपना था कि उनके तीन बेटों में से एक बेटा जज बने। आखिरकार मैंने उनका यह सपना पूरा कर दिया ।” पिता को अपना आदर्श बताने वाले बजाड़ ने बताया कि उन्होंने कानून में स्रातक की उपाधि हासिल की है और सिविल जज वर्ग-दो की भर्ती परीक्षा में उनका चयन चौथे प्रयास में हुआ है।

हालांकि सामान्य पृष्ठभूमि से आने वाले इस युवक की दुनिया इस चयन के बाद बदल गई है और कई लोग उनकी कामयाबी की कहानी को सोशल मीडिया पर भी साझा कर रहे हैं। बजाड़ ने आगे कहा, “न्यायाधीश की बड़ी जिम्मेदारी भरी कुर्सी पर बैठने के बाद मेरा प्रयास रहेगा कि लोगों को अदालत में जल्द से जल्द इंसाफ मिले।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 जम्मू-कश्मीर में ढिलाई बरतने को तैयार नहीं मोदी सरकार, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री ने दी यह जानकारी
2 उत्तर प्रदेश: सरकारी बैंक ने नहीं दिया लोन तो नौजवान ने दिया किडनी बेचने का विज्ञापन