ताज़ा खबर
 

देवी सरस्वती का अपमान करने के आरोप में सरकारी कॉलेज का प्रिसिंपल गिरफ्तार, कॉलेज की दीवारों पर लगाने देता था सिर्फ गांधी-अंबेडकर की तस्वीरें

सेंवढ़ा थाना प्रभारी शैलेंद्र सिंह के अनुसार प्रिंसिपल गौतम पर 153-ए और 295-ए के तहत मामला दर्ज किया गया है। बता दें कि इस मामले में कॉलेज के प्रोफेसर मनोज को भी इन्हीं धाराओं के तहत गिरफ्तार किया गया है।

Author भोपाल | June 3, 2019 10:51 AM
प्रतीकात्मक फोटो (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

मध्य प्रदेश के भोपाल में देवी सरस्वती का अपमान करने और उनके खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने के आरोप में एक सरकारी कॉलेज के प्रिंसिपल को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। प्रिंसिपल पर आरोप है कि उन्होंने कॉलेज कैंपस और दीवारों पर देवी सरस्वती की तस्वीरें लगाने पर प्रतिबंध लगा दिया था। उन पर देवी सरस्वती के बारे में अपमानजनक टिप्पणी करने का भी आरोप लगा है। वहीं इस मामले में कॉलेज के एक प्रोफेसर पर भी प्रिंसिपल से प्रभावित होने और उनके अपमानजनक टिप्पणियों वाले वीडियो शेयर करने का आरोप लगा है। बता दें कि मामले के तूल पकड़ने के बाद प्रिंसिपल ने खुद थाने जाकर सरेंडर कर दिया था। यह मामला दतिया के सेंवढ़ा कॉलेज का है।

सिर्फ गांधी-अंबेडकर की तस्वीरें लगाने की इजाजतः पुलिस के अनुसार प्रिंसिपल की पहचान डॉक्टर एसएस गौतम के रूप में हुई है। 52 वर्षीय गौतम अनुसूचित जाति से ताल्लुक रखते हैं। उन्होंने कुछ महीने पहले ही यह कॉलेज ज्वॉइन किया था। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में डॉक्टर गौतम को देवी सरस्वती के खिलाफ अपमानजनक बयान देते हुए सुना गया। इसके बाद में उनका खुलकर विरोध किया गया और स्थानीय लोगों ने उनकी गिरफ्तारी की मांग भी की। मामले को आगे बढ़ता देख पुलिस ने आरोपी प्रोफेसर के रिश्तेदारों के घर छापे मारे और पूछताछ शुरू कर दी। इस बीच प्रोफेसर ने थाने में जाकर सरेंडर कर दिया। बताया जा रहा है कि आरोपी प्रोफेसर ने कॉलेज में केवल महात्मा गांधी और बाबा साहेब अंबेडकर की तस्वीरें को ही लगाने की इजाजत दे रखी थी।

National Hindi News, 02 June 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की तमाम अहम खबरों के लिए क्लिक करें

प्रोफेसर भी गिरफ्तारः प्रिंसिपल गौतम के कॉलेज ज्वॉइन करने से पहले मनोज व्यास प्रभारी प्राचार्य के पद पर काम कर रहे थे। इस मामले में पुलिस ने इन्हें भी गिरफ्तार किया है। पुलिस के अनुसार मनोज भी अनुसूचित जाति से आते हैं। उन पर आरोप है कि वह प्रिंसिपल गौतम के विचारों का समर्थन करते हैं और उनके बयानों को रिकॉर्ड कर इलाके में शेयर करने का काम भी करते थे। पुलिस अब इस आरोप की पुष्टि करने में लगी है।

“Bihar News Today, 02 June 2019: दिनभर की खास खबरों के लिए क्लिक करें”

ग्वालियर जेल में रहने की इच्छा जताईः सेंवढ़ा थाना प्रभारी शैलेंद्र सिंह के अनुसार प्रिंसिपल गौतम पर 153-ए और 295-ए के तहत मामला दर्ज किया गया है। बता दें कि इस मामले में कॉलेज के प्रोफेसर मनोज को भी इन्हीं धाराओं के तहत गिरफ्तार किया गया है। वहीं कोर्ट ने प्रिंसिपल गौतम को दो हफ्तों के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। पुलिस ने बताया कि अपनी जान को खतरा बताते हुए प्रिंसिपल गौतम ने खुद को ग्वालियर के जेल भेजे जाने की भी मांग की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App