ताज़ा खबर
 

आयरन और फ्लाई ऐश से मकान बनवाकर 3.5 लाख रुपए में लोगों को देगी सरकार: नितिन गडकरी

ऐसे समय में जबकि देश की केवल एक प्रतिशत जनसंख्या ही 10 लाख रूपये से अधिक कीमत वाले मकान खरीदने में सक्षम है, सरकार न केवल स्मार्ट शहर बनाने को प्रतिबद्ध है बल्कि पांच लाख रूपये से सस्ते मकानों की पेशकश करेगी।

Author नई दिल्ली | Updated: February 11, 2016 12:36 PM
सड़क परिवहन, राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (File Photo)

ऐसे समय में जबकि देश की केवल एक प्रतिशत जनसंख्या ही 10 लाख रूपये से अधिक कीमत वाले मकान खरीदने में सक्षम है, सरकार न केवल स्मार्ट शहर बनाने को प्रतिबद्ध है बल्कि पांच लाख रूपये से सस्ते मकानों की पेशकश करेगी। सड़क परिवहन, राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने यह जानकारी दी। वो उद्योग मंडल एसोचैम के ‘स्मार्ट शहर‘ शिखर सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि सस्ते मकान बहुत महत्वपूर्ण हैं। सबसे बड़ी बाधा यह है कि हमारे देश में केवल एक प्रतिशत लोग ही ऐसे हैं जो कि 10 लाख रूपये से अधिक कीमत वाला मकान खरीद सकते हैं।

अगर हम पांच लाख रूपये से कम कीमत वाला मकान उपलब्ध कराते हैं तो 30 प्रतिशत जनता खरीद पाएगी। उन्होंने कहा कि स्मार्ट शहर बनाने पर अपने ध्यान के साथ साथ निर्धनतम लोगों को वहनीय कीमतों पर मकान उपलब्ध कराना भी नरेंद्र मोदी सरकार के शीर्ष एजेंडे में से एक है।
पांच लाख रूपये से भी सस्ता मकान दिलाएगी सरकार! सरकार न केवल स्मार्ट शहर बनाने को प्रतिबद्ध है बल्कि पांच लाख रूपये से सस्ते मकानों की पेशकश करेगी।

इस तरह के एक उप्रकम के तहत नागपुर में एक प्रयोग किया गया है। वहां इस्पात के ढांचे पर मकान बनाया गया है जिसमें 70 प्रतिशत ‘फ्लाई एश’ का इस्तेमाल है। इसका उद्घाटन 20 फरवरी को होगा। मंत्री ने कहा कि भवनों की निर्माण लागत 1000 रपये प्रति वर्ग फुट आती है। हम 450 वर्ग फुट का मकान पांच लाख रूपये में उपलब्ध कराने में सक्षम होंगे। हम उनमें सौर ऊर्जा प्रणाली लगा रहे हैं और ‘फ्लाई एश’ से बना बेड भी।

उन्होंने कहा कि इस पर 1.5 लाख रूपये की सब्सिडी दी जाएगी। खरीदार के लिए मकान की लागत 3.5 लाख रूपये होगी और 7 से 7.5 प्रतिशत ब्याज दर पर ऋण उपलब्ध होगा। कोई गरीब भी इसे खरीद सकता है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories