ताज़ा खबर
 

अब खुले में शौच करने वालों की फोटो खींच कर शिक्षा विभाग को WhatsApp करेंगे टीचर

विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इस आदेश के तहत शिक्षकों को प्रतिदिन व्हाट्सएप के जरिये वरिष्ठ अधिकारियों को रिपोर्ट और फोटो भेजने होेंगे।

Author कोटा | June 7, 2016 01:46 am
चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के गृह शहर और विधानसभा क्षेत्र झालवाड़ में जिला शिक्षा विभाग ने सरकारी शिक्षकों से अपने स्कूली क्षेत्रों में खुले में शौच की प्रवृत्ति को रोकने और इस संबंध में जागरूकता फैलाने के लिए खुले में शौच करने वालों की फोटो खींचने को कहा है। यह आदेश शिक्षक संगठनों को खास पसंद नहीं आया है। उनका कहना है कि यह काम अनुचित है और खासकर महिला शिक्षकों के लिए यह कठिन है।

विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इस आदेश के तहत शिक्षकों को प्रतिदिन व्हाट्सएप के जरिये वरिष्ठ अधिकारियों को रिपोर्ट और फोटो भेजने होेंगे। यह आदेश तीन जून को जारी किया गया, जो विद्यालयों में चल रही गर्मी की छुट्टी खत्म होने के बाद 21 जून से प्रभावी होगा।

झालावाड़ के जिला शिक्षा अधिकारी (प्राथमिक) लक्ष्मण कुमार मालावत ने बताया कि सरकारी विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों और उनके कर्मचारियों को सुबह पांच बजे अपने क्षेत्र में जाने के लिए कहा गया है। मालावत ने कहा कि इस दौरान वे छात्रों और उनके माता-पिता को खुले में शौच के खतरों से अवगत करायेंगे और खुले में शौच करने वालों की तस्वीर लेंगे। महिला सरकारी शिक्षकों पर भी यह आदेश लागू होगा। शिक्षक संगठनों ने इस आदेश की कड़ी आलोचना की है। झालावाड़ जिला शिक्षक संघ के पूर्व अध्यक्ष अजय जैन ने कहा कि शिक्षण की जगह शिक्षकों के लिए बस अब यही करना बाकी रह गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App