ताज़ा खबर
 

मुगलसराय स्टेशन से 13 किलो सोने के साथ एक गिरफ्तार

बरामद सोने की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में तीन करोड़ रुपए से अधिक बताई गई है। कस्टम विभाग वाराणसी के अधीक्षक एमए बाली ने बताया कि बरामद सोने की सिल्लियां स्विटजरलैंड की बनी थी, जोकि बांग्लादेश के रास्ते कोलकाता बड़ी बाजार के सोनाबाड़ी पहुंचा और वहां से तस्करों के जरिए देश के विभिन जगहों पर भेजा जाता है।

Author February 1, 2018 03:53 am
मुगलसराय देश के सबसे व्यस्ततम स्टेशनों में से एक है, जो ग्रांड ट्रंक रोड से पास स्थित है।

मुगलसराय स्टेशन पर मंगलवार को राजकीय रेलवे पुलिस ने 13 किलो सोने की सिल्लियां के साथ कानपुर के महेंद्र वाजपेयी को गिरफ्तार किया है। पूछताछ में उसने बताया कि सोने की 13 किलो सिल्लियां हावड़ा से लेकर कानपुर जा रहा था। सभी सिल्लियां एक-एक किलो की थी। जानकारी होते ही सीओ जीआरपी, कस्टम विभाग, आइबी व एलआइयू टीम मौके पर पहुंच गई। बरामद सोने की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में तीन करोड़ रुपए से अधिक बताई गई है। कस्टम विभाग वाराणसी के अधीक्षक एमए बाली ने बताया कि बरामद सोने की सिल्लियां स्विटजरलैंड की बनी थी, जोकि बांग्लादेश के रास्ते कोलकाता बड़ी बाजार के सोनाबाड़ी पहुंचा और वहां से तस्करों के जरिए देश के विभिन जगहों पर भेजा जाता है।

बरामद सोने की कीमत 3 करोड़ 98 लाख 89431 रुपए है। बाली ने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्त से पूछताछ करने पर जानकारी मिली है कि बरामद सोना कानपुर के गिरीश अग्रवाल नामक एक ज्वैलरी के व्यापारी का है, लेकिन इसका कोई कागजात बरामद नहीं हुआ है। विभाग की टीम कानपुर रवाना हो गई लेकिन व्यापारी नहीं मिल सका है। मंगलवार को जीआरपी की टीम मुगलसराय जंक्शन के प्लेटफार्मों पर सुबह दस बजे आकस्मिक जांच कर रही थी। इस बीच प्लेटफार्म 5-6 पर अप 2307 हावड़ा-जोधपुर एक्सप्रेस ट्रेन पहुंची। पुलिस टीम प्लेटफार्म से बाहर निकलने वाले रास्तों पर नजर गड़ाए थी। एक व्यक्ति बैग लेकर तेजी से बाहर निकल रहा था, संदेह होने पर पुलिस टीम ने उसे रोकना चाहा तो वह और तेज चलने लगा। इस पर पुलिस कर्मियों ने दौड़ कर उसे रोका और बैग की जांच की। बैग में कागजों में लिपटी सोने की सिल्लियां देख पुलिसकर्मी दंग रह गए।

पुलिस टीम माल सहित आरोपी को कोतवाली ले आई। कोतवाल आरके सिंह ने गिरफ्तार व्यक्ति से सोने के बाबत कागजात व अन्य जानकारी मांगी तो वह कुछ भी नहीं बता सका। सीओ विमल कुमार श्रीवास्तव सहित कस्टम विभाग वाराणसी के अधीक्षक एमए बाली, आइबी के गौतम कुमार व एलआइयू को दी। अन्य विभाग के लोग भी थोड़ी देर बाद मौके पर उपस्थित होकर मामले की जांच पड़ताल में जुट गए। सीओ जीआरपी के मुताबिक पकड़ा गया तस्कर यहां से किसी अन्य ट्रेन से कानपुर जाने की फिराक में था।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App