ताज़ा खबर
 

करोड़ों के जेवरात पहनने वाले गोल्‍डन बाबा को जूना अखाड़े ने निकाला, चार और संत किए बाहर

गोल्डन बाबा स्वर्ण आभूषणों से अपने प्यार के लिए जाने जाते हैं। वह करोड़ो रुपए के स्वर्ण आभूषण हमेशा पहने रहते हैं। गोल्डन बाबा जूना रमता पंच के श्रीमहंत थे, जिन पर संगम मेले की तैयारियों की देखरेख की जिम्मेदारी थी।

golden babaगोल्डन बाबा को जूना अखाड़े ने किया बाहर। (image source-ani/twitter)

जूना अखाड़े ने सख्त कार्रवाई करते हुए गोल्डन बाबा समेत 5 पदाधिकारियों को अखाड़े से निकाल दिया है। गोल्डन बाबा और 4 अन्य पदाधिकारियों पर यह कार्रवाई कथित तौर पर खराब व्यवहार और गलत भाषा का इस्तेमाल करने के चलते की गई है। जूना अखाड़े ने अपने मुख्यालय बाबा सिद्ध मौजगिरी मंदिर में हुई एक बैठक के दौरान गोल्डन बाबा और अन्य 4 पदाधिकारियों को अखाड़े से निकालने का फैसला लिया। बता दें कि गोल्डन बाबा स्वर्ण आभूषणों से अपने प्यार के लिए जाने जाते हैं। वह करोड़ो रुपए के स्वर्ण आभूषण हमेशा पहने रहते हैं। गोल्डन बाबा जूना रमता पंच के श्रीमहंत थे, जिन पर संगम मेले की तैयारियों की देखरेख की जिम्मेदारी थी। गोल्डन बाबा को ना सिर्फ जूना अखाड़े ने उनके पद से हटाया है, बल्कि उन्हें अखाड़े से भी बाहर का रास्ता दिखा दिया है।

हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के अनुसार, जूना अखाड़े के मुख्यालय में हुई बैठक में जूना रमता पंच के 5 पदाधिकारियों के खिलाफ लिए गए फैसले के वक्त जूना रमता पंच के सभी महत्वपूर्ण अधिकारी मौजूद थे। जूना अखाड़े के मुख्य संरक्षक और अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के महासचिव स्वामी हरि गिरी का कहना है कि “गोल्डन बाबा और 4 अन्य पदाधिकारियों को शिकायतें मिलने के बाद अखाड़ा से बाहर कर दिया गया है। हमें पता चला है कि गोल्डन बाबा ने पुलिस के एक गनर को धमकाया और उसे सोने की चोरी के झूठे आरोप में फंसाने की धमकी दी। स्वामी हरि गिरी ने कहा कि ऐसा बताया जा रहा है कि गोल्डन बाबा ने गनर को उनके साथ हरिद्वार चलने को कहा था। इस पर पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने इस घटना के बारे में हमें जानकारी दी।”

स्वामी हरि गिरी ने बताया कि गोल्डन बाबा मेले में अन्य लोगों के साथ कठोर भी रहे, जिससे जूना अखाड़े को उनके खिलाफ कार्रवाई करनी पड़ी। गोल्डन बाबा की तरह ही श्रीमहंत पूजा पुरी ने भी ड्यूटी पर मौजूद पुलिसकर्मियों के खिलाफ आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किया। जिसके चलते उन्हें भी अखाड़े से बाहर कर दिया गया है। बता दें कि गोल्डन बाबा और श्रीमहंत पूजा पुरी के अलावा श्रीमहंत देवेंद्र पुरी, थानापति शिवोम पुरी और थानापति मनोहर पुरी को भी जूना अखाड़े से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है। उल्लेखनीय है कि गोल्डन बाबा और अन्य पदाधिकारी कुंभ मेले की तैयारियों की देख-रेख के लिए बीते 28 नवंबर को ही प्रयागराज पहुंच गए थे।

Next Stories
1 पंजाब पंचायत चुनाव: महज 35 रुपए के बकाया टैक्स ने लगाई उम्मीदवारी पर रोक, खारिज हुए हजारों नामांकन
2 केदारनाथ आपदा में गुम हुई युवती अब पहुंची घर, हादसे में मारे गए पिता को अब भी करती है याद
3 कश्‍मीर: 2009 के बाद सबसे खूनी साल रहा 2018, 590 आतंकी घटनाओं में 400 से ज्‍यादा मौतें
ये पढ़ा क्या?
X