ताज़ा खबर
 

गोवा: मनोहर पर्रिकर पर संशय गहराया, केंद्रीय मंत्री बोले- आज नहीं तो कल होगा नेतृत्‍व परिवर्तन

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की बीमारी के कारण अब उनके पद पर बने रहने पर संशय खड़े होने लगे हैं। उनकी अपनी ही पार्टी के नेता अब उनके स्वास्थ्य के कारण उनके पद पर बने रहने पर सवाल उठाने लगे हैं।

केंद्रीय आयुष मंत्री श्रीपद नाइक (Photo: Wikimedia)

पूर्व रक्षा मंत्री और वर्तमान में गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की बीमारी के कारण अब उनके पद पर बने रहने पर संशय खड़े होने लगे हैं। उनकी अपनी ही पार्टी के नेता अब उनके स्वास्थ्य के कारण उनके पद पर बने रहने पर सवाल उठाने लगे हैं। जबकि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ये बात साफ कर चुके हैं कि गोवा में मंत्रिमंडल बदला जाएगा लेकिन सीएम के पद पर पर्रिकर काम करते रहेंगे।

केंद्रीय राज्य मंत्री (आयुष) श्रीपद नाईक ने मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के खराब स्वास्थ्य पर समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत की। नाईक ने कहा,” गोवा में नेतृत्व में परिवर्तन होना तय है। वह आज हो या फिर कल हो। ये एक आवश्यकता है। आप जानते हैं कि मुख्यमंत्री का स्वास्थ्य अच्छा नहीं है। लेकिन वह फिर भी उसी स्थिति में काम कर रहे हैं।”

बता दें कि गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर लंबे समय से बीमार चल रहे हैं। वे एडवांस पैंक्रियाटिक कैंसर का इलाज करवा रहे हैं। कुछ महीनों से वे गोवा, मुंबई और न्यूयॉर्क के अस्पतालों में भी इलाज करवा रहे हैं। उनकी तबियत को देखते हुए गोवा में राजनीतिक उथल-पुथल मची हुई थी। ऐसी चर्चा होने लगी थी कि शायद मनोहर पर्रिकर को मुख्यमंत्री पद से हटाकर किसी और को गोवा का सीएम बनाया जा सकता है।

लेकिन भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने 23 सितंबर को इन तमाम अटकलों को खारिज कर दिया था। अमित शाह ने कहा था कि फिलहाल मनोहर पर्रिकर गोवा के मुख्यमंत्री बने रहेंगे। मंत्रिमंडल में शीघ्र ही बदलाव किया जाएग। अमित शाह ने ट्वीट कर कहा, “गोवा प्रदेश भाजपा की कोर टीम के साथ चर्चा कर यह निर्णय लिया गया है कि गोवा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर पर्रिकर जी ही गोवा सरकार का नेतृत्व करते रहेंगे। प्रदेश सरकार के मंत्रिमंडल व विभागों में बदलाव शीघ्र ही किया जाएगा।”

वहीं प्रदेश की विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि गोवा के बीमार मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर अस्पताल के अपने कमरे से ‘लोगों को धमका रहे हैं।’ पार्टी ने उनके मेडिकल बुलेटिन जारी करने की भी मांग की थी। इससे कुछ दिनों पहले कांग्रेस ने राज्यपाल से मुलाकार कर पर्रिकर सरकार को विश्वासमत हासिल करने की चुनौती दी थी। कांग्रेस के इस कदम को भाजपा ने पॉलिटिकल स्टंट बताया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App