ताज़ा खबर
 

Goa: 10 कांग्रेस विधायकों को BJP में मिलाने पर बवाल, डिप्टी CM बोले- आज दूसरी बार हुई पर्रिकर की मौत, खत्म कर दी उनकी परंपरा

40 सदस्यीय राज्य विधानसभा में बीजेपी विधायकों की संख्या 27 हो गई है। इसके बाद मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने चार मंत्रियों को अपनी कैबिनेट से हटा दिया, जिनमें सरदेसाई सहित गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) के तीन मंत्री और एक निर्दलीय शामिल हैं।

Author पणजी | Published on: July 14, 2019 3:52 AM
विजय सरदेसाई, गोवा के डिप्टी सीएम (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

कांग्रेस से बीजेपी में आने वाले विधायकों की तुलना बंदर से कर चुके गोवा के डिप्टी सीएम विजय सरदेसाई ने अब एक और बयान दिया है। गोवा के निवर्तमान उप मुख्यमंत्री विजय सरदेसाई ने शनिवार (13 जुलाई) को कहा कि कांग्रेस के 10 विधायकों को बीजेपी में शामिल करना दिवंगत मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर द्वारा स्थापित परंपरा को खत्म करने जैसा है। दरअसल, इस तटीय राज्य के सबसे कद्दावर भगवा नेता रहे पर्रिकर को क्षेत्रीय दलों को एकजुट कर 2017 में सरकार बनाने का श्रेय जाता है।

सीएम ने सरदेसाई समेत 4 से छीने मंत्रालयः गोवा में कांग्रेस को इस हफ्ते उस वक्त जोरदार झटका लगा, जब उसके 15 में से 10 विधायकों ने अपना पाला बदल लिया और बीजेपी में शामिल हो गए। इस घटनाक्रम से 40 सदस्यीय राज्य विधानसभा में बीजेपी विधायकों की संख्या 27 हो गई है। इसके बाद मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने चार मंत्रियों को अपनी कैबिनेट से हटा दिया, जिनमें सरदेसाई सहित गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) के तीन मंत्री और एक निर्दलीय शामिल हैं।

दो बार हुई पर्रिकर की मौतः सरदेसाई ने मिरामार में पर्रिकर के स्मारक के पास लोगों से कहा, ‘पर्रिकर की दो बार मौत हुई। उनका देहावसान 17 मार्च को हुआ, जबकि आज उनकी राजनीतिक परंपरा खत्म हो गई।’ उन्होंने यह घोषणा भी कि गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) बीजेपी नीत सरकार से अपना समर्थन वापस ले रही है।

पर्रिकर से किया था हमेशा समर्थन का वादाः सरदेसाई ने कहा, ‘हमने प्रमोद सावंत सरकार का समर्थन किया था क्योंकि मैंने पर्रिकर से वादा किया था कि किसी भी परिस्थिति में सरकार को समर्थन जारी रहेगा। हम अब एनडीए द्वारा ठगे गए महसूस कर रहे हैं।’ सरदेसाई ने दोहराया कि बीजेपी के किसी केंद्रीय नेता ने उनसे बात नहीं की है। उन्होंने कहा, ‘बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व ने अपनी साख खो दी है। एनडीए ने अपने सहयोगियों को छोड़ दिया।’ सरदेसाई लगातार अपने तीखे बयानों के चलते भी चर्चा में बने हुए हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 वरिष्ठ नेताओं ने खोला शीला दीक्षित के खिलाफ मोर्चा
2 केजरीवाल ने कहा, देरी के लिए दोषारोपण नहीं, मेट्रो के लिए दिल्ली सरकार ने मांगा केंद्र का सहयोग
3 बड़ी पहलः पूर्वोत्तर की पहाड़ियों का आनंद अब रेलवे के साथ