ताज़ा खबर
 

बलात्कार मामले में गोवा के विधायक को मिली जमानत

कांग्रेस से निष्कासित विधायक अटानेसियो मोंसरेट पर मार्च में 16 वर्षीय नाबालिग लड़की को खरीदने और उसके साथ बलात्कार करने के आरोप में मामला दर्ज किया गया है।

Author पणजी | May 19, 2016 01:30 am
गोवा विधायक बाबूश मोनसेराटे पर एक नाबालिग नेपाली लड़की को खरीदने और उससे दुष्‍कर्म का मामला दर्ज किया गया है।

गोवा में एक नाबालिग लड़की को कथित रूप से खरीदने और उसके साथ बलात्कार करने के आरोपी विधायक अटानेसियो मोंसरेट को बुधवार (18 मई) को यहां की स्थानीय अदालत ने जमानत दे दी। जिला एवं सत्र न्यायाधीश प्रमोद कामत ने मोंसरेट और 50 लाख रुपए में अपनी बेटी (पीड़िता) को विधायक को बेचने के आरोप में गिरफ्तार लड़की की मां रोजी फैरोस को जमानत दे दी। सेंट क्रूज से विधायक मोंसरेट को एक लाख रुपए की जमानत राशि और इतनी ही राशि का मुचलका जमा कराने को कहा गया है। इसके अलावा उन्हें अगले सात दिनों के लिए अपराध शाखा में उपस्थित होने को कहा गया है। दो अन्य आरोपी महिलाओं को भी 25-25 हजार रुपए की जमानत राशि और इतनी ही राशि का मुचलका जमा करने को कहा गया है, साथ ही दोनों को सात दिनों के लिए अपराध शाखा में रिपोर्ट करने को कहा गया है।

पिछले साल कांग्रेस से निष्कासित विधायक को पांच मई को गिरफ्तार किया गया था। गोवा पुलिस मोंसरेट के खिलाफ मामले की जांच कर रही है। उन पर मार्च में 16 वर्षीय नाबालिग लड़की को खरीदने और उसके साथ बलात्कार करने के आरोप में मामला दर्ज किया गया है। मोंसरेट के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। विधायक के वकील राजीव गोम्स ने विधायक के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी में आइपीसी की धारा 370 और गोवा बाल अधिनियम की धारा 8 (2) लगाने के खिलाफ दलील दी।

लड़की द्वारा दर्ज बयान का हवाला देते हुए गोम्स ने कहा कि इस मामले में लड़की के साथ कोई यौन प्रताड़ना नहीं हुई, क्योंकि उसने अपनी शिकायत में न तो कभी इसका दावा किया और न ही इस बारे में कोई खुलासा किया। मोंसरेट पांच मई को पुलिस के समक्ष पेश हुए थे और वकील ने उसी दिन उसकी गिरफ्तारी को यह कहकर चुनौती दी कि यह गिरफ्तारी एक अन्य ऐसे अधिकारी ने की है, जो मामले की जांच से जुड़ा नहीं है। गोम्स ने इस बात की ओर इशारा किया कि विधायक की गिरफ्तारी पुलिस इंस्पेक्टर दत्तागुरु सावंत ने की, जबकि मामले की जांच सावंत के सहकर्मी सुदीक्षा नाईक कर रहे हैं।

वकील ने दावा किया कि यह जांच आरोपी के राजनीतिक विरोधियों के इशारे पर चलाई जा रही है। उन्होंने यह भी कहा कि विधायक पर बलात्कार का आरोप लगाकर पुलिस लड़की को बलात्कार पीड़िता के तौर पर पेश कर रही है और पीड़िता की छवि धूमिल कर रही है। अपनी जमानत याचिका में विधायक ने कहा कि उनके खिलाफ बलात्कार का आरोप जांच अधिकारी की कोरी कल्पना मात्र है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App