ताज़ा खबर
 

10 साल में 9 बार बेची गई, रोज होता रहा रेप, आजाद होकर भी पड़ रहा है बिछड़े हुए बच्चों के लिए तड़पना

पीड़िता को 15 साल की उम्र में 66 वर्षीय व्यक्ति को बेच दिया गया।

चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

दिल्ली के एक भीड़ भरे बाजार से 12 साल की उम्र में उनका अपहरण हो गया था। उसके बाद अगले 10 सालों तक उन पर जो गुजरी वो किसी के रोंगटे सिहराने के लिए काफी है। इस दौरान उन्हें नौ अलग-अलग लोगों को 15-20 हजार रुपये में बेचा गया। इन सालों में उनका रोज बलात्कार किया जाता रहा, उन्हें ड्रग्स दिया गया और हार्मोंस के इंजेक्शन लगाए गए। पिछले हफ्ते वो एक बार डांसर की मदद से अपहरणकर्ताओं के चंगुल से भाग निकलने में कामयाब रहीं।

अब 22 साल की पीड़िता ने टीवी चैनल एनडीटीवी को बताया, “एक कमरा लड़कियों से भरा रहता था, कुछ कम उम्र की कुछ ज्यादा उम्र की…कुछ रोती थीं, कुछ बेहोश हो जाती थीं…मुझसे कहा गया कि मैं अंबाला में हूं और मुझे बेचा जाएगा।” पीड़िता के शरीर पर जलने, कटने, घाव, इंजेक्शन और दूसरे तरह के प्रताड़नाओं के निशान थे। पीड़िता ने चैनल को बताया, “मैं जब भी आंख खोलती थी तो खुद को किसी दूसरी जगह पाती थी।”

पीड़िता ने टीवी चैनल को बताया, “वो मुझे मारते थे और खेतों में पूरे दिन बगैर खाना दिए काम कराते थे। रात को मुझे जो खाना दिया जाता था उसमें नशा मिला होता था, उसके बाद वो मेरा बलात्कार करते थे।” अहरण के तीन साल बाद 2009 में पीड़िता को 66 वर्षीय व्यक्ति को सोने के बदले बेच दिया गया। उसने पीड़िता से गुरुद्वारे में शादी की। उस समय उन्हें हार्मोंस के इंजेक्शन दिए जाते थे ताकि वो 15 साल से बड़ी लगें। अगले ही साल वो एक लड़के की मां बनीं। उसके अगले साल फिर उन्हें एक लड़का हुआ। दोनों बच्चों को उनसे छीन लिया गया।

पीड़िता ने बताया, “बूढ़ा आदमी दो साल बाद मर गया। उसके बाद उसके भाई और उसके बेटे मेरे संग हर रात बलात्कार करते रहे। बाद में उसकी बहन ने मेरे बेटे को रख लिया और मुझे किसी को बेच दिया।” उनके अपहरणकर्ताओं को पुलिस ने पकड़ लिया है लेकिन उनसे शादी करने वाले व्यक्ति के परिवारवाले अभी फरार हैं। अपनी मां के पास लौट चुकी पीड़िता की अब बस एक ही ख्वाहिश है कि उनके बच्चे उन्हें वापस दिलवाए जाएं।

राजधानी दिल्ली में कई अपहरण गिरोह सक्रिय हैं। दिल्ली में हर रोज 8 से 15 साल की उम्र के औसतन 22 बच्चों का अपहरण कर लिया जाता है। पुलिस के आंकड़ों के अनुसार पिछले साल दिल्ली में 2,683 बच्चों की गुमशुदगी रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी।

Video: 14 साल की उम्र में नौ महीने तक रेप के शिकार हुई पीड़िता ने कहा- पोर्न की वजह से होता था रेप

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App