scorecardresearch

न एंबुलेंस न स्ट्रेचर…यूपी में स्वास्थ्य सेवा का हाल, ठेले पर लादकर मरीज को अस्पताल ले गए परिजन

डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने ट्वीट किया, “गाजियाबाद में टीबी मरीज को स्ट्रेचर न मिलने व रिक्शे पर मरीज को ले जाने संबंधी मीडिया रिपोर्ट का संज्ञान लेते हुए मैंने सीएमओ, गाजियाबाद को उक्त प्रकरण के संबंध में जांचकर दोषियों के विरुद्ध त्वरित कार्यवाही करते हुए रिपोर्ट 25 जून, 2022 तक उपलब्ध कराये जाने के आदेश दिये हैं।”

न एंबुलेंस न स्ट्रेचर…यूपी में स्वास्थ्य सेवा का हाल, ठेले पर लादकर मरीज को अस्पताल ले गए परिजन
मरीज को ठेले पर लादकर अस्पताल पहुंचे परिजन (PHoto Source- twitter/ @ChhaviDr)

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में एचआईवी पीड़ित महिला को एंबुलेंस न मिलने पर ठेले पर ले जाने का मामला सामने आया है। साहिबाबाद में HIV और टीबी की मरीज एक महिला को एंबुलेंस और स्ट्रेचर तक नहीं मिला, जिसके बाद महिला का भाई उसे ठेले पर लादकर जिला अस्पताल तक ले गया। मामले के तूल पकड़ने पर प्रदेश के डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने जांच के आदेश दिए हैं।

मरीज को ठेले पर ले जाना पड़ा: साहिबाबाद की रहने वाली 40 वर्षीय महिला को टीवी का संक्रमण था, जिसकी जांच में महिला को एचआईवी की भी पुष्टि हुई थी। एचआईवी की पुष्टि होने पर बुधवार (22 जून) को महिला मरीज को गाजियाबाद के जिला अस्पताल स्थित बुलाया गया था। परिजनों का कहना था कि एंबुलेंस न मिलने पर मरीज को ठेले पर ले जाना पड़ा और जिला अस्पताल में भी उन्हें एंबुलेंस या स्ट्रेचर नहीं मिल पाई।

ब्रजेश पाठक ने दिए जांच के आदेश: ठेले पर लादकर मरीज को अस्पताल ले जाने का वीडियो वायरल होने पर महिला को स्ट्रेचर और एंबुलेंस का इंतजाम कराया गया। इस वीडियो का संज्ञान सूबे के डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने लिया और ट्वीट पर जांच कर कार्रवाई करने की बात कही। इसके बाद गाजियाबाद सीएमओ भवतोष शंखधर ने तीन डॉक्टरों के पैनल को मामले की जांच सौंपी। डॉ. एके दीक्षित, डॉ. संतराम वर्मा और डॉ. पंकज शर्मा की एक समिति बनाकर पूरे मामले की जांच कराई गई।

डॉक्टर और वार्डबॉय बर्खास्त: डिप्टी सीएम के आदेश पर हुई जांच रिपोर्ट में कहा गया कि मरीज को जब ठेले पर लेकर आया गया तो वार्डबॉय ने उसे स्ट्रेचर तक मुहैया नहीं कराया। डॉ. संतराम ने भी ठेले पर ही आकर महिला को देखा और वहीं से उसे रेफर कर दिया। CMO डॉ. भवतोष शंखधर ने डॉ. शील वर्मा और वार्डबॉय मयंक को गुरुवार को बर्खास्त कर दिया। दोनों संविदा पर कार्यरत थे। ऐसे में उनकी सेवाएं समाप्त कर दी गई हैं।

सीएमएस डॉ. एके दीक्षित, डॉ. संतराम और डॉ. पंकज शर्मा ने अपनी ज्वाइंट जांच रिपोर्ट सीएमओ को सौंपी थी। जांच रिपोर्ट मिलने के बाद यह कार्रवाई हुई है। कार्रवाई और जांच रिपोर्ट प्रशासन को भेज दी गई है।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट