ताज़ा खबर
 

गाजियाबादः बुजुर्ग की पिटाई से पहले का वीडियो? कबूल की तावीज़ वाली बात

समद सैफी नाम के इस बुजुर्ग ने ‘जय श्रीराम’ के नारे लगवाने, जान से मारने की धमकी देने, मारपीट करने और पेशाब पिलाने की कोशिश के आरोप लगाए हैं। इस मामले में कुछ लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है।

पुलिस समद सैफी नाम के इस बुजुर्ग को ताबीज बनाने वाला बता रही है। (video screenshot)

उत्तर प्रदेश केगाजियाबाद के लोनी इलाके में एक मुस्लिम बुजुर्ग की पिटाई का वीडियो सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रहा है। वीडियो में कुछ लोग बुजुर्ग शख्स को बेरहमी से पीटते दिख रहे हैं। इसके अलावा एक युवक उस बुजुर्ग की दाढ़ी को कैंची से काटता हुआ दिखाई दे रहा है।

पुलिस समद सैफी नाम के इस बुजुर्ग को ताबीज बनाने वाला बता रही है, जबकि उन्होंने इससे इंकार किया है। वहीं यूपी के मुख्यमंत्री के सूचना सलहकार शलब मनी त्रिपाठी ने एक और वीडियो ट्वीट किया है। त्रिपाठी ने ट्वीट कर लिखा “‘इंतजार ने कह कर भेजा कि इन्हें ताबीज़ देकर मेरे वश में कर दो,इनसे मेरा काम है’ पिटाई से पहले का असली वीडियो जिसमें तांत्रिक ने बताई पूरी कहानी, पर हिंदुओं और श्रीराम को बदनाम कर दंगा कराने के लिए इसे एडिट कर कहानी गढी गई कि जय श्रीराम न कहने पर बुजुर्ग को पीट कर दाढी नोच ली गई।”

इस वीडियो में बुजुर कह रहा है कि “‘इंतजार ने कह कर भेजा कि इन्हें ताबीज़ देकर मेरे वश में कर दो, इनसे मेरा काम है।” इस वीडियो को भाजपा नेता वीके सिंह ने भी शेयर किया है। वीके सिंह ने लिखा “2022 में उत्तर प्रदेश में चुनाव होने वाले हैं। देखते जाइये सत्ता के लोभी कितना गिरते हैं आने वाले कुछ दिनों में। ”

समद सैफी नाम के इस बुजुर्ग ने ‘जय श्रीराम’ के नारे लगवाने, जान से मारने की धमकी देने, मारपीट करने और पेशाब पिलाने की कोशिश के आरोप लगाए हैं। इस मामले में कुछ लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है।

पुलिस ने दावा किया कि पीटने वाले लोग बुजुर्ग के परिचित ही थे, और विवाद एक ताबीज को लेकर हुआ था। अब्दुल समद सैफी ने आरोप लगते हुए बताया था कि “वो चार लोग थे। मेरी कनपटी पर पिस्तौल लगाई। डंडे और बेल्ट से मुझे बहुत मारा। मैं नहीं जानता था कि वो कौन थे।”

सैफी ने कहा था कि “मैं नहीं जानता कि मारने वाला कोई मुसलमान था। ताबीज की बात झूठी है। मैं ताबीज का कोई काम नहीं करता। मुझ पर झूठा इल्जाम लगाया जा रहा है। ऐसा इल्जाम कोई भी लगा सकता है। मैं तो मदरसे पर रहता हूं।”

Next Stories
1 बिहारः निजी कंपनी को 29 करोड़ रु. का ठेका, नहीं पूरा हो रहा टारगेट तो जबरन हो रहा सरकारी कर्मचारियों को कोरोना टेस्ट
2 चुनाव के वक्त भाजपा नेता देना चाहते थे 10 लाख की रिश्वत? कोर्ट ने कहा, दर्ज करो केस
3 नीतीश सरकार में RT-PCR जांच घोटाला? 20 करोड़ के काम का ब्लैकलिस्टेड कंपनी को दिया 29 करोड़ में ठेका
ये पढ़ा क्या?
X