ताज़ा खबर
 

जर्मन महिला टूरिस्ट के साथ गैंग रेप, हॉस्पिटल में भर्ती कराई गई महिला

तमिलनाडु के कांचीपुरम जिले में स्थित महाबलीपुरम में एक जर्मन महिला टूरिस्ट के साथ गैंगरेप की खबर मिली है।

Author नई दिल्ली | April 3, 2017 00:08 am
गैंगरेप पीड़िता से पुलिसकर्मी ने भी किया दुष्कर्म। (प्रतीकात्मक फाेटो)

वैसे तो हमारे देश में अतिथि देवो भवः को काफी महत्व दिया जाता है लेकिन अक्सर हमें अथितियों के साथ बदसलूकी खबरें सुनने को मिलती हैं। हाल ही तमिलनाडु के कांचीपुरम जिले में स्थित महाबलीपुरम में एक जर्मन महिला टूरिस्ट के साथ गैंगरेप की खबर मिली है। पुलिस ने इस मामले को लेकर केस दर्ज कर लिया है और दे लोगों को गिरफ्तार भी किया है। बताया जा रहा है कि गैंग रेप के बाद विदेश महिला की हालत  ठीक नहीं है। उसे इलाज के लिए नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

गौरतलब है कि इससे पहले एक दूसरी जर्मन महिला से दुष्कर्म करने के मामले में ओडिशा के पूर्व पुलिस महानिदेशक बी.बी मोहंती के बेटे और दुष्कर्म के आरोपी बिट्टी मोहंती को सुप्रीम कोर्ट से शुक्रवार को जमानत मिल गई। सुप्रीम कोर्ट ने बिट्टी मोहंती को इस शर्त पर जमानत दी है कि वो ढाई लाख रूपये निजी मुचलके के साथ अपना पासपोर्ट जमा कराएंगे। कोर्ट ने उन्हें यह भी आदेश दिया है कि वो हर महीने के पहले सप्ताह थाने में हाजिरी देने आएंगे। बिट्टी के वकील सार्थक नायक ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने दोनों पक्षों की लंबे समय तक बहस सुनने के बाद बिट्टी को जमानत देने का फैसला सुनाया है।

बता दें, बिट्टी मोहंती ने साल 2006 में अलवर में एक जर्मन महिला से दुष्कर्म किया था। इसको चलते राजस्थान हाईकोर्ट ने उसे 7 साल की सजा सुनाई थी। बिट्टी की जमानत पर राजस्थान सरकार ने काफी विरोध किया था, सुप्रीम कोर्ट के मामले में और मामले की मांग के अनुरूप था कि आवेदक को जमानत पर रिहा होना चाहिए।

बता दें कि साल 2006 में अलवर के होटल में 26 वर्षीय जर्मन महिला से दुष्कर्म करने के मामले में बिट्टी को राजस्थान पुलिस ने गिरफ्तार किया था। इस मामले में राजस्थान हाईकोर्ट ने उसे सात वर्ष की सजा हुई थी। बिट्टी मोहंती पिछले 5 साल 4 माह से जयपुर सेंट्रल जेल में बंद था। शुरूआत में यह केस काफी चर्चा में रही। इसका कारण था कि बिट्टी मोहंती पूर्व डीजीपी का बेटा है। यह देश का पहला ऐसा केस था जिसमें ट्रायल प्रारंभ होने के 9 दिन बाद ही सजा का ऐलान हो गया था। रिपोर्ट के मुताबिक, इस मामले में नवंबर 2006 में बिट्टी मोहंती को पैरोल मिला था। उसके बाद वह फरार हो गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App