ताज़ा खबर
 

गहलोत गुजरात व शिंदे हिमाचल के पर्यवेक्षक बने

कांग्रेस ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) की बैठक के लिए पर्यवेक्षक नियुक्त कर दिए हैं।
Author नई दिल्ली | December 30, 2017 01:24 am
कांग्रेस ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) की बैठक के लिए पर्यवेक्षक नियुक्त कर दिए हैं।

कांग्रेस ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) की बैठक के लिए पर्यवेक्षक नियुक्त कर दिए हैं। अगले सप्ताह होने वाली बैठकों में दोनों राज्यों में कांग्रेस विधायक दल के नेता का चुनाव होगा। पार्टी के नए चेहरे को तौर पर गुजरात में किसी युवा विधायक को आगे किए जाने के कयास हैं तो हिमाचल में भी पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को पार्टी विधायक दल का नेता चुने जाने को लेकर अलग अलग दावे किए जा रहे हैं। कांग्रेस महासचिव जनार्दन द्विवेदी ने शुक्रवार को एक बयान जारी कर बताया कि पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुजरात में कांग्रेस विधायक दल की पहली बैठक के लिए पार्टी के प्रभारी महासचिव अशोक गहलोत और पूर्व केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह को पर्यवेक्षक नियुक्त किया है। उन्होंने कहा कि इसी प्रकार हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस विधायक दल की पहली बैठक के लिए पार्टी के प्रभारी महासचिव सुशील कुमार शिंदे और महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री बाला साहेब थोराट को पर्यवेक्षक नियुक्त किया है।

इन दोनों राज्यों के विधानसभा चुनावों के लिए हाल में घोषित नतीजों में कांग्रेस को गुजरात की 182 सीटों में से 77 सीटें और हिमाचल प्रदेश की 68 सीटों में से 21 सीटें मिली थीं। कांग्रेस महासचिव व हिमाचल के पर्यवेक्षक बनाए गए शिंदे के करीबी सूत्रों ने बताया कि दो-तीन दिन के बाद ही सीएलपी की बैठक बुलाए जाने की संभावना है। हालांकि उन्होंने हिमाचल में कांग्रेस विधायक दल के नेता के नाम को लेकर चल रहे कयासों को यह कह कर खारिज कर दिया कि नेता का चुनाव विधायक करेंगे। महत्त्वपूर्ण यह भी है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी शुक्रवार को खुद हिमाचल प्रदेश पहुंचे और वहां पर नेताओं व कार्यकर्ताओं से अलग अलग मुलाकात की।

सूबे में पार्टी के मुखिया सुखविंदर सिंह सुक्खू ने राहुल की इस यात्रा को पार्टी के नए नेता के चुनाव से जोड़े जाने को गलत करार देते हुए कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष की यात्रा नेताओं व कार्यकर्ताओं से संवाद के लिए हुई है। इसका किसी नेता के चुनाव से कोई लेना देना नहीं है। वीरभद्र सिंह को पार्टी विधायक दल का नेता चुने जाने को लेकर उन्होंने कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। दूसरी ओर पार्टी अध्यक्ष राहुल ने मेघालय विधानसभा चुनाव में प्रभारी एआइसीसी महासचिव व सचिव की सहायता के लिए विधायक यशामति ठाकुर को राज्य समन्वयक और अनिल थामस, एन डिसूजा व सुशांतो बरगोहिन को प्रभागीय समन्वयक नियुक्त करने को भी मंजूरी दी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.