ताज़ा खबर
 

‘गरुड़’ के सहारे बिहार सरकार कर रही कोरोना मरीजों की मॉनिटरिंग, अब तक 2.78 लाख लोगों की हुई ट्रेसिंग, जानें- क्या है ये नया औजार?

इस एप की मदद से प्रशसन ने 2 लाख से अधिक अंतर्राष्ट्रीय और घरेलू यात्रियों को ट्रेस किया है जो लॉकडाउन के वक़्त बिहार में आए हैं और इन सभी लोगों को निगरानी में रखा गया है।

coronavirusCoronavirus: तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (Express Photo by Tashi Tobgyal)

देश में कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। ऐसे में सभी राज्य सरकारें अपने-अपने राज्य को इसके प्रकोप से बचाने की कोशिश में जुटी हुई हैं। बिहार सरकार कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की मॉनिटरिंग ‘गरुड़’ के सहारे कर रही है। दरअसल देश में कोरोना संकट आने के 24 घंटों के भीतर बिहार आपदा प्रबंधन विभाग ने राज्य से जुड़े यात्रियों पर नज़र रखने के लिए एक एप तैयार किया था। इस एप का नाम ‘गरुड़’ है।

इस एप की मदद से प्रशसन ने 2 लाख से अधिक अंतर्राष्ट्रीय और घरेलू यात्रियों को ट्रेस किया है जो लॉकडाउन के वक़्त बिहार में आए हैं और इन सभी लोगों को निगरानी में रखा गया है। इस एप को बनाने वाले आपदा प्रबंधन विभाग के प्रमुख सचिव प्रणय अमृत ने द न्यू इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए कहा “ये एप लोगों को ट्रेस करने और उनकी निगरानी रखने में हमारी बहुत मदद कर रहा है। इस एप के माध्यम से बिहार में अबतक हमने 1.77 से अधिक घरों का दौरा किया गया है। इस एप ने विभाग को यह पता लगाने में मदद की कि 3671 व्यक्ति, जो हाल ही में बाहर से बिहार आए है वे अपने घरों पर नहीं रह रहे हैं। ट्रेस किए गए कुल 2,78,718 व्यक्तियों में से 15,392 का अंतरराष्ट्रीय यात्रा इतिहास रहा है। बाकी के लोग देश के अलग-अलग कोने से यात्रा कर वापस आए थे।

Coronavirus in India LIVE Updates: यहां पढ़ें कोरोना वायरस से जुड़ी सभी लाइव अपडेट

अमृत ने बताया कि राज्य भर में 3265 स्कूल और पंचायत भवनों को क्वारंटाइन सेंटर में तब्दील किया गया है। इन क्वारंटाइन सेंटरों में 31192 लोगों को रखा गया है। इन लोगों में ज़्यादातर प्रवासी हैं जो देश के अलग-अलग हिस्सों से राज्य में आए हैं।

अमृत ने कहा “राज्य के शहरी क्षेत्रों में, 156 आपदा राहत शिविर चल रहे हैं जो 17000 प्रवासियों और भिखारियों और अन्य गरीब लोगों की मदद कर रहे हैं। ये शिविर इन लोगों को भोजन और आश्रय प्रदान करने के लिए चल रहे हैं। अगर सब कुछ ठीक रहता है, तो बिहार में डेयरी स्टॉल, आउटलेट और ईंट भट्टों को और अधिक समय के लिए काम करने की अनुमति दी जाएगी।

बिहार में कोरोना के मरीजों की संख्या 38 तक पहुंच गई है। मंगलवार को बिहार में कोरोना के छह नए मरीज मिले थे। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार बिहार के 10 जिलों में ही कोरोना के मरीज मिले हैं। इनमें पटना में 5, मुंगेर में 7, नालंदा में 2, सीवान में 10, गया में 5, गोपालगंज में 3, बेगूसराय में 3, लखीसराय, सारण और भागलपुर में एक-एक समेत कुल 38 कोरोना के मरीज मिलें हैं।

जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस? । इन वेबसाइट और ऐप्स से पाएं कोरोना वायरस के सटीक आंकड़ों की जानकारी, दुनिया और भारत के हर राज्य की मिलेगी डिटेल । कोरोना संक्रमण के बीच सुर्खियों में आए तबलीगी जमात और मरकज की कैसे हुई शुरुआत, जान‍िए

Next Stories
1 यूपी में पुलिसवालों को 50 लाख रुपये का इंश्योरेंस कवर, योगी सरकार ने किया ऐलान, मीडियाकर्मियों को ताकीद
2 CoronaVirus: ‘साम्प्रदायिक सवाल न पूछें’, पत्रकारों को ममता बनर्जी की दो टूक
3 कोरोना के खिलाफ जंग में सीएम योगी ने उतारे 66 फायर ब्रिगेड, हरी झंडी दिखा किया रवाना; हर सड़क, गली होगी सैनिटाइज
MP Budget:
X