ताज़ा खबर
 

कोलकाता : कुंभ के बावजूद गंगासागर मेले का क्रेज, मोक्ष की कामना लेकर आ सकते हैं 35 लाख श्रद्धालु

सैकड़ों तीर्थ के समान माने जाने वाले गंगासागर मेले का औपचारिक शुभारंभ हो चुका है। माना जा रहा है कि प्रयागराज में कुंभ के बावजूद यहां करीब 35 लाख श्रद्धालु आ सकते हैं।

कलकत्ता स्थित गंगा सागर मंदिर। फोटो सोर्स : सोशल मीडिया

सारे तीरथ बार-बार, गंगासागर एक बार…यह बात आपने अपने जीवन में कई बार जरूर सुनी होगी। …तो अब तैयार हो जाइए सागरद्वीप (कोलकाता) में इसी गंगासागर मेले के लिए, जहां हर साल लाखों श्रद्धालु मोक्ष की कामना लेकर आते हैं। सैकड़ों तीर्थ के समान माने जाने वाले गंगासागर मेले का औपचारिक शुभारंभ हो चुका है। माना जा रहा है कि प्रयागराज में कुंभ के बावजूद यहां करीब 35 लाख श्रद्धालु आ सकते हैं।

मकर संक्रांति पर लगता है मेला : मकर संक्रांति के अवसर पर गंगासागर में हर साल बड़ा मेला लगता है, जिसके लिए इस बार खास तैयारियां की गई हैं। ऐसे में प्रदेश सरकार ने इस मेले के लिए 100 करोड़ रुपए का बजट जारी किया है, जिससे तीर्थयात्रियों को अच्छी सुविधाएं देने के साथ-साथ सफाई व्यवस्था का भी ध्यान रखा जाएगा। वहीं, कोलकाता के आउटट्राम घाट पर लगे शिविरों में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ने लगी है।

पिछले साल आए थे 30 लाख श्रद्धालु : जानकारी के मुताबिक, 2018 में करीब 30 लाख श्रद्धालुओं ने गंगासागर में डुबकी लगाई थी। अनुमान है कि इस साल 35 लाख श्रद्धालु आ सकते हैं। वहीं, प्रशासन ने मेले में सुरक्षा के लिए पुख्ता इंतजाम किए हैं। पश्चिम बंगाल के दक्षिण 24 परगना जिले में लगने वाले इस मेले को लेकर जिला प्रशासक वाई रत्नाकर राव ने विभिन्न विभागों के आला अधिकारियों के साथ एक विशेष बैठक की। पूरी व्यवस्था पर निगरानी रखने के लिए एक मेगा कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है।

कैमरों से रखेंगे सुरक्षा व्यवस्था पर नजर : कोलकाता के बाबूघाट से सागरद्वीप तक गंगासागर मेले के मार्ग पर 700 सीसीटीवी कैमरे, 10 हीलियम बैलून और 20 ड्रोन से निगरानी की जा रही है। गंगासागर जाने के लिए काकद्वीप के लॉट नंबर-8, नामखाना, सागरद्वी के वेणुवन, कचुबेड़िया और मेला प्रांगण में भीड़ संभालने व निगरानी के लिए काफी पुलिसकर्मी तैनात रहेंगे। साथ ही, 30 अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, 89 डीएसपी रैंक के अधिकारी, 214 इंस्पेक्टर और 633 सब-इंस्पेक्टर मुस्तैद रहेंगे। उधर, समुद्री मार्ग पर स्पीड बोट से नजर रखी जायेगी। यहां 10 अस्थायी फायर सर्विस स्टेशन खोले गए हैं।

श्रद्धालुओं के लिए निर्देशिका : पुलिस ने श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए एक निर्देशिका भी जारी की है। इसमें बताया गया है कि वे मेले में किस तरह की सावधानी बरतें। खासकर बुजुर्गों और बच्चों को लेकर सावधानी बरतने की सलाह दी गई है। किसी के खोने पर निकटतम पुलिस हेल्प डेस्क से संपर्क करने या 100 नंबर पर फोन करने को कहा गया है। किसी भी तरह की समस्या होने पर पुलिस या स्वयंसेवकों की मदद लेने का निर्देश दिया गया है।

रुपयों के लिए नहीं पड़ेगा भटकना : गंगासागर के आउटट्राम घाट शिविर में ठहरने वाले तीर्थयात्रियों को इस बार कैश की किल्लत नहीं होगी। इसके लिए भारतीय स्टेट बैंक ने शिविर में अपना अस्थायी एटीएम काउंटर लगाया है। बता दें कि पहली बार यहां किसी बैंक ने एटीएम काउंटर खोला है। मेले में एसबीआई की 2 मशीनें लगाई गई हैं। वहीं, रेलवे स्टेशन की तरह मेला परिसर में क्लॉक रूम की भी व्यवस्था की गई है। यहां सामान रखने के लिए श्रद्धालुओं को कोई शुल्क नहीं देना होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App