‘गंबुजा’ मछली करेगी डेंगू फैलाने वाले मच्छरों के लार्वा का सफाया, UP के फिरोजाबाद में 25 हजार मछलियां मंगाई गईं

डेंगू और मलेरिया के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए फिरोजाबाद के तालाबों और गड्ढों में गुंबजा मछलियां छोड़ी जा रही हैं। जिले में करीब 25 हजार मछलियां मंगाई गई हैं, जिन्हें गड्ढ़ो और तालाबों में डाला जा रहा है।

Gambusia Fish Express Photo By Jaipal Singh
'गंबुजा' मछली के जरिए कई जिलों में डेंगू पर काबू पाया गया है । Express photo by Jaipal Singh

डेंगू और मलेरिया के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए फिरोजाबाद के तालाबों और गड्ढों में गुंबजा मछलियां छोड़ी जा रही हैं। जिले में करीब 25 हजार मछलियां मंगाई गई हैं, जिन्हें गड्ढों और तालाबों में डाला जा रहा है। गुंबजा मछलियां आकार में छोटी होती हैं और डेंगू के लार्वा का शिकार करती हैं। यह मछलियां एक दिन में 100 लार्वा खाकर खुद के आकार को भी बढ़ा लेती हैं। फिरोजाबाद में इसके 50 पैकेट मंगाए गए हैं। एक पैकेट में लगभग 500 मछलिया होती हैं।

इन जिलों में कारगर रहा है तरीका: फिरोजाबाद के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ दिनेश कुमार प्रेमी बताते हैं कि इसका सबसे पहले प्रयोग बरेली में हुआ था, जो सफल रहा था। उसके बाद बदायूं में भी इसका प्रयोग हुआ और वहां भी डेंगू के लार्वा को काबू करने में सफलता मिली। मछली की यह प्रजाति छोटे-छोटे गड्ढों में जमा पानी में रहकर कई प्रकार के मच्छरों का खात्मा करती है। उन्होंने बताया कि अर्बन इलाकों में प्रकोप ज्यादा होने के कारण सबसे पहले वहां से अभियान की शुरुआत की गई है। इस मछली को ग्रामीण क्षेत्रों के तालाबों में भी डाला जा रहा है। जिससे वायरल व डेंगू के प्रकोप को नियंत्रित किया जा सके।

पहले नचले इलाकों में छोड़ा जाएगा: गंबुजा मछली को शहर के निचले इलाकों में और ग्रामीण क्षेत्रों में पानी से भरे गड्ढे, तालाबों में छोड़ा जा रहा है जिससे डेंगू फैलाने वाले मच्छरों के लार्वा को खत्म किया जा सके। इससे मलेरिया फैलाने वाले मच्छरों के प्रजनन को भी कंट्रोल करने में मदद मिलती है।

इस बीच, राजधानी लखनऊ स्थित संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (SGPGI), राम मनोहर लोहिया अस्पताल (RML) और किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय (KGMU) के विशेषज्ञ चिकित्‍सकों की तीन टीमें डेंगू और वायरल बुखार से प्रभावित आगरा, फिरोजाबाद और मथुरा जाएंगी। विशेषज्ञों की टीम तीनों जिलों के अस्‍पतालों में इलाज की प्रक्रिया देखेंगी और स्‍थानीय डॉक्टरों को गाइड करेगी।

सोमवार को अधिकारियों के साथ उच्‍च स्‍तरीय बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एसजीपीजीआई, केजीएमयू और आरएमएल के तीन-तीन विशेषज्ञ चिकित्सकों की तीन टीम गठित कर फिरोजाबाद, मथुरा और आगरा भेजने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि एक-एक मरीज की सेहत पर बारीकी से ध्यान दिया जाए। विशेषज्ञ चिकित्सकों की यह टीम स्थानीय डॉक्टरों का मार्गदर्शन कर मरीजों को बेहतर इलाज उपलब्‍ध करायेगी। राज्‍य सरकार ने मरीजों के इलाज और बीमारी से निपटने के लिए आवश्यकतानुसार सुविधाएं, दवाइयां और तकनीक का इस्‍तेमाल बढ़ाने की निर्देश भी दिए हैं।

फिरोजाबाद के ताजा हालात: फिरोजबाद में पिछले दिनों के मुकाबले रविवार को वायरल व डेंगू बुखार के प्रकोप में रविवार को कुछ कमी देखी गई। रविवार को डेंगू और वायरल बुखार से किसी की मौत नहीं हुई। अबतक जिले में डेंगू और वायरल बुखार से 52 लोगों की मौत हुई है।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।