ताज़ा खबर
 

दिल्ली, हरियाणा, महाराष्ट्र और राजस्थान में बांटे जाएंगे कम बिजली खपत वाले पंखे

कम कीमत पर पांच और राज्यों- दिल्ली, हरियाणा, महाराष्ट्र, राजस्थान और मध्य प्रदेश में अगले दो-तीन महीनों में बिजली की कम खपत करने वाले सीलिंग पंखों का वितरण किया जाएगा।
Author नई दिल्ली | July 18, 2016 03:39 am
सीलिंग फैन। (Photo: wikipedia)

कम कीमत पर पांच और राज्यों- दिल्ली, हरियाणा, महाराष्ट्र, राजस्थान और मध्य प्रदेश में अगले दो-तीन महीनों में बिजली की कम खपत करने वाले सीलिंग पंखों का वितरण किया जाएगा। फिलहाल सार्वजनिक क्षेत्र की एनर्जी एफिशिएंस सर्विसेज लिमिटेड (ईईएसएल) आंध्र प्रदेश के पश्चिम गोदावरी और विजयवाड़ा व उत्तर प्रदेश के वाराणसी व कानपुर जिलों में ये 50 वाट के ऊर्जा दक्ष सीलिंग पंखों का वितरण कर रही है।

ईईएसएल के प्रबंध निदेशक सौरभ कुमार ने कहा कि हमने अगले 2-3 महीनों में पांच राज्यों- दिल्ली, हरियाणा, महाराष्ट्र, राजस्थान और मध्य प्रदेश में ये ऊर्जा दक्ष पंखे वितरित करने की योजना बनाई है। उन्होंने कहा कि ईईएसएल ने 10 लाख ऊर्जा दक्ष पंखे खरीदने के लिए निविदा जारी की है। हमें उम्मीद है कि अगस्त के बाद से इन पंखों की आपूर्ति होने लगेगी। एकमुश्त कीमत अदा करने पर ये पंखे 1,150 रुपए में उपलब्ध हैं और मासिक किस्त पर इसकी कीमत 1,200 रुपए होगी।

मासिक किस्त उपभोक्ताओं के बिजली बिल से काटी जाएगी। ऊर्जा दक्षता ब्यूरो से मानकीकृत पांच सितारे वाले 50 वाट के ये सीलिंग पंखे बाजार में 1,500 रुपए से कम पर उपलब्ध नहीं हैं। ईईएसएल ने चार राज्यों में बिजली की कम खपत करने वाले 42,000 पंखों का वितरण किया है। प्रतिक्रिया से उत्साहित ईईएसएल अपनी योजना के दायरे के विस्तार के लिए पांच राज्यों में बिजली वितरण इकाइयों के साथ गठजोड़ किया है। कुमार ने कहा कि एलएईडी बल्ब की सफलता के बाद ईईएसएल ने अब एलईडी ट्यूबलाइट का वितरण करने की योजना बनाई है। हमने करीब 300 रुपए प्रति ट्यूब के आधार पर करीब 50,000 ऐसी ट्यूबलाइट खरीदी थीं।

हमने ऐसी और एक करोड़ ट्यूबलाइट खरीदने की योजना बनाई है। ये एलईडी ट्यूबलाइट 18-20 वाट की होंगी जिन्हें आसानी से पारंपरिक 42 वाट की ट्यूबलाइट की जगह लगाया जा सकता है। कुमार ने कहा कि एलईडी बल्ब की तरह की ट्यूबलाइट की कीमत भी घटेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.