ताज़ा खबर
 

दिल का इलाज करवाने भारत पहुंची पाकिस्तान की नन्ही सी जान

पाकिस्तान का रहने वाला 4 माह का नन्हा सा बच्चा रोहान, जो विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के आश्वासन पर चिकित्सा उपचार के लिए भारत आया है, आज जेपी हॉस्पीटल नोएडा पहुंच गया है।
पाकिस्तान का रहने वाला 4 माह का नन्हा सा बच्चा रोहान, जो विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के आश्वासन पर चिकित्सा उपचार के लिए भारत आया है, आज जेपी हॉस्पीटल नोएडा पहुंच गया है।

पाकिस्तान का रहने वाला 4 माह का नन्हा सा बच्चा रोहान, जो विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के आश्वासन पर चिकित्सा उपचार के लिए भारत आया है, आज जेपी हॉस्पीटल नोएडा पहुंच गया है। रोहान के दिल में एक छेद है, जिसकी वजह से उन्हें इलाज के लिए मल्टी स्पेशियलिटी अस्पताल के लिए भेजा गया था। भारत और पाकिस्तान के बीच सीमा पार से तनाव की वजह से, उसके माता-पिता को भारत में अपने बच्चे के उपचार के लिए चिकित्सा वीजा नहीं मिल रहा था। इस वजह से रोहान के पिता कंवल सादिक ने सुषमा स्वराज से संपर्क किया और मेडिकल वीजा के लिए एक याचिका दायर की। जिसके बाद सुषमा स्वराज ने अधिकारियों को रोहान के परिवार को तत्काल चिकित्सा वीजा देने का निर्देश दिया, जिसके बाद वो वाघा बॉर्डर के माध्यम से भारत आए।

इसके बाद भारतीय मंत्रियों ने कार्रवाई में जोर दिया और एक ट्वीट के साथ उत्तर दिया, कोई भी पीड़ित बच्चा सफर नहीं करेगा। आफ पाकिस्तान में भारतीय उच्चायोग से संपर्क करें। हम मेडिकल वीजा देंगे। बाल हृदय रोग के चिकित्सक डॉ. आशुतोष मारवा, और प्रख्यात बाल हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ राजेश शर्मा के साथ मिलकर रोहान को जांचेंगे और उनका इलाज करेंगे। डॉ. मारवा बच्चे की बीमारी और स्थिति की जांच करेंगे और डॉ. शर्मा रोहान का ऑपरेशन करेंगे।

डॉ मारवाह ने कहा कि रोहान दिल में छेद होने के साथ-साथ एक गंभीर स्थिती से गुजर रहा है जिसे -TRANSPOSITION OF GREAT ARTERIES कहते हैं इस स्थिती, दिल और फेफड़े की नसें विपरीत दिशा से आती हैं और शरीर में ऑक्सीजन युक्त खून का प्रवाह नहीं होता। उसी के कारण, पहले महीने से सांस लेने में परेशानी हो सकती है, इसलिए बच्चा तेजी से सांस लेना शुरू कर देता है। बच्चे के वजन में वृद्धि नहीं होती है और निमोनिया हो जाता है। जीवित रहने की संभावना कम हो जाती है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि बीमारी का जल्द से जल्द इलाज किया जाना चाहिए, क्योंकि 8 महीने के बाद बीमारी लाइलाज हो जाता है और मृत्यु की संभावना बढ़ जाती है।

डॉ शर्मा ने कहा कि रोहान एक गंभीर स्थिती से गुजर रहा है उसके दिल और महाधमनी में छेद है, जो दिल के बाईं ओर होना चाहिए, फुफ्फुसीय धमनियां बाएं से आ रही हैं जो शरीर के सामान्य संरचना के ठीक विपरीत हैं। इस बीमारी के कारण, रोहन के फेफड़ों का दबाव बहुत तेजी से बढ़ जाता है और उसके शरीर के विभिन्न भागों में साफ खून की बहुत कमी है। इस बीमारी को धमनियों के साथ वर्ड बंद करने की विधि के साथ इलाज किया जाएगा, जिसमें महाधमनी और फुफ्फुसीय धमनियों को अपने स्थान से हटा दिया जाएगा और सही जगह पर समायोजित किया जाएगा। अगर इस बीमारी का इलाज जन्म के 4 महीने के भीतर किया जाता है, तो पीड़ित के जीवित रहने की संभावना 100 प्रतिशत होगी। जैसे की रोहान की उम्र 4 महीने पहले ही पूरी हो चुकी है, इसलिए सर्जरी में 5 से 10 प्रतिशत जोखिम होगा।

रोहान के माता-पिता प्रारंभिक जांच के बाद जेपी अस्पताल पहुंचे और उन्होंने कहा कि रोहान के दिल में छेद होने के साथ-साथ नसों के साथ भी बहुत बड़ी समस्या है। इस तरह की बड़ी बीमारी का इलाज पाकिस्तान या अन्य छोटे अस्पताल में नहीं किया जा सकता था। क्योंकि छोटे अस्पतालों में बहुत सी सुविधाओं की कमी होती है। इसलिए परिवार को जेपी अस्पताल के लिए रेफर किया गया था। ऑपरेशन की संभावना 15 जून को होने वाली है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.