ताज़ा खबर
 

असम सरकार के बैन लगाने के वाबजूद भी मुंह पर काली पट्टी बांध गुवाहाटी पहुंचे प्रवीण तोगड़िया

विश्व हिंदू परिषद के पूर्व अंतराष्ट्रीय अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया असम सरकार द्वारा राजधानी और उसके आसपास मीडिया को संबोधित करने और सार्वजनिक जनसभा को संबोधित करने पर लगाए गए दो महीने के प्रतिबंध के बावजूद बुधवार को यहां पहुंच गए।

Author गुहावटी | Updated: July 18, 2018 6:08 PM
मुंह पर काली पट्टी बांधकर कार्यक्रम में पहुंचे प्रवीीण तोगाड़िया (फोटो-पीटीआई)

विश्व हिंदू परिषद के पूर्व अंतराष्ट्रीय अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया असम सरकार द्वारा राजधानी और उसके आसपास मीडिया को संबोधित करने और सार्वजनिक जनसभा को संबोधित करने पर लगाए गए दो महीने के प्रतिबंध के बावजूद बुधवार को यहां पहुंच गए। तोगड़िया विमान से यहां हवाईअड्डे पहुंचे और वहां से सीधे शहर में नीलाचल पहाड़ियों के शिखर पर स्थित कामाख्या मंदिर चले गए। उनके निर्धारित कार्यक्रमों पर प्रतिबंध लगाने के सरकार के फैसले के विरोध में वह माथे पर एक काली पट्टी बांधे हुए हवाईअड्डे से बाहर निकले।
अंतर्राष्ट्रीय हिंदू परिषद (एएचपी) के सैकड़ों समर्थकों ने हालांकि तोगड़िया का स्वागत गर्मजोशी से किया और हवाईअड्डे के बाहर उनके सम्मान में नारे लगाए। साथ ही उन्होंने भाजपा नीत असम सरकार और केंद्र सरकार के खिलाफ नारे लगाए।

तोगड़िया हालांकि मीडिया से बचते हुए दिखाई दिए। एएचपी समर्थकों ने कहा कि तोगड़िया ने काली पट्टी बांधकर उन्हें चुप कराने के सरकार के कदम का विरोध करने का निर्णय लिया है। तोगड़िया बुधवार को गुवाहाटी के पुलिस आयुक्त हिरेन नाथ से मिलकर यह जानने की कोशिश करेंगे कि क्यों उन्हें जनसभाओं को संबोधित करने और कोई बयान देने से प्रतिबंधित किया गया है।
असम में एएचपी नेता ने कहा, “सरकार का यह कदम हमें चुप कराने के लिए है। हालांकि हम चुप नहीं बैठेंगे और भाजपा सरकार को इसका जवाब 2019 के आम चुनाव में देना होगा। उन्होंने कहा कि असम सरकार ने राज्य के विभिन्न हिस्सों में 100 वाहनों को रोक दिया। इन वाहनों में सवार एएचपी के हजारों समर्थक गुवाहाटी पहुंचकर तोगड़िया से मिलने वाले थे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 स्वामी अग्निवेश बोले- हमलों से नहीं डरेंगे, सरकार कराए मामले की न्यायिक जांच
2 सुप्रीम कोर्ट में बोली ‘आप सरकार’- आपके आदेश के बावजूद ठप्प है दिल्ली में कामकाज, हस्तक्षेप करें हुजूर!
3 दिल्ली हाईकोर्ट का जेएनयू को निर्देश- 20 जुलाई तक कन्हैया को दें राहत!
यह पढ़ा क्या?
X