ताज़ा खबर
 

कन्हैया कुमार ने कुछ इस अंदाज में समझाई ‘अनेकता में एकता’, जमकर बजीं तालियां, Video हुआ वायरल

कन्हैया ने देश की विविधताओं का जिक्र किया और बताया कि क्या है जो भारत को अद्वितीय बनाता है। उनके जवाब पर लोगों ने खूब तालियां बजाईं।

Author बेंगलुरु | August 14, 2019 11:31 AM
कन्हैया कुमार (सोर्स : एक्सप्रेस फाइल फोटो )

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार का एक वीडियो सोशल मीडिया पर खासा वायरल हो रहा है। इस वीडियो में वे ‘एक भारत’ के संबंध में बात कर रहे हैं। मैंगलोर में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया के नेता बीवी ककिलया के शताब्दी समारोह में बोलते वक्त कन्हैया से एक शख्स ने पूछा कि क्यों वो ‘एक राष्ट्र, एक पार्टी’ के लिए नहीं खड़े हो रहे?

कन्हैया ने जमकर बटोरीं तालियांः इसके जवाब में कन्हैया ने देश की विविधताओं का जिक्र किया और बताया कि क्या है जो भारत को अद्वितीय बनाता है। उनके जवाब पर लोगों ने खूब तालियां बजाईं। एक छात्रा ने ‘जय श्री राम’ बोलते हुए सवाल पूछना शुरू किया और कन्हैया से कहा कि वो भी एक बार जय हिंद बोलें। कन्हैया ने कहा- जहां से मैं आता हूं वहां लोग सीता-राम बोलते हैं।

एक राष्ट्र की नीति पर भी बोले कन्हैया: वहीं जब पूछा गया कि क्यों वो एक राष्ट्र की नीति का समर्थन नहीं करते? तो उन्होंने कहा भारत एक है लेकिन एक संविधान जो पूरे देश का प्रतिनिधित्व करता है उसमें 300 अनुच्छेद हैं।

National Hindi News, 13 August 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की तमाम अहम खबरों के लिए क्लिक करें

‘युवाओं में सवाल पूछने की आदत नहीं है’: कन्हैया ने कहा, ‘एक राष्ट्र है, लेकिन संसद में भी दो सदन हैं लोकसभा और राज्यसभा।’ उन्होंने ऐसे ही कई और उदाहरण भी दिए। उनके भाषण का एक हिस्सा काफी तेजी से वायरल हुआ। उन्होंने यह भी कहा कि युवाओं में सवाल पूछने की आदत नहीं है। इन दिनों यह न तो सदन में सिखाया जाता है, न समाज में और न ही शैक्षणिक संस्थाओं में।

Bihar News Today, 13 August 2019: बिहार से जुड़ी खास खबरों के लिए क्लिक करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 ‘जब देश आजादी की 100वीं सालगिरह मना रहा होगा तब कश्मीर नहीं रहेगा भारत का हिस्सा’
2 अयोध्या विवाद: क्या विवादित स्थल पर मंदिर था? सुप्रीम कोर्ट में पांचवें दिन हुई सुनवाई
3 शोध-अनुसंधानः भारतीय वैज्ञानिकों ने खोजा तपेदिक का मूल कारण