ताज़ा खबर
 

पूर्व ISRO प्रमुख माधवन नायर भाजपा में शामिल हुए, अमित शाह ने दिलाई सदस्यता

माना जा रहा है कि माधवन नायर के बीजेपी में शामिल होने से भाजपा केरल में मजबूत होगी। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह पिछले कुछ महीनों से दक्षिणी राज्यों खासकर केरल और तमिलनाडु में पार्टी के प्रचार-प्रसार की कोशिशों में जुटे हैं। लोकसभा चुनाव नजदीक होने की वजह से केरल में भी भाजपा किलेबंदी करने में जुटी हैं।

बीजेपी अध्यक्ष की मौजूदगी में इसरो के पूर्व प्रमुख माधवन नायर बीजेपी में शामिल हुए। (फोटो- एएनआई)

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के पूर्व प्रमुख माधवन नायर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) में शामिल हो गए हैं। नायर ने बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की मौजूदगी में शनिवार (27 अक्टूबर) को तिरुअनंतपुरम में पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। इस मौके पर शाह ने उन्हें अंगवस्त्रम ओढ़ाकर पार्टी में उनका स्वागत किया। माना जा रहा है कि माधवन नायर के बीजेपी में शामिल होने से भाजपा केरल में मजबूत होगी। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह पिछले कुछ महीनों से दक्षिणी राज्यों खासकर केरल और तमिलनाडु में पार्टी के प्रचार-प्रसार की कोशिशों में जुटे हैं। लोकसभा चुनाव नजदीक होने की वजह से केरल में भी भाजपा किलेबंदी करने में जुटी हैं। भाजपा सबरीमाला विवाद पर पहले से ही श्रद्धालुओं का साथ दे रही है और उसके सहारे 2019 के लोकसभा चुनाव में केरल में खाता खोलने की तैयारी कर रही है। शनिवार को ही पार्टी अध्यक्ष अमित शाह सबरीमाला मंदिर विवाद में भगवान अयप्पा के भक्तों के समर्थन में खुलकर सामने आए थे और केरल सरकार को धमकी दी थी कि अगर श्रद्धालुओं पर दमन नहीं रुका तो इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे।

सबरीमाला विवाद में भाजपा और आरएसएस से जुड़े करीब 2000 कार्यकर्ताओं को वाम मोर्चे की सरकार ने गिरफ्तार किया है। शाह ने सबरीमाला मंदिर विवाद को लेकर राज्य सरकार के खिलाफ बर्बरता करने का आरोप लगाया और मंदिर में हर आयुवर्ग की महिलाओं के प्रवेश के सुप्रीम कोर्ट के फैसले की खिलाफत की। कांग्रेस भी सबरीमाला विवाद पर लेफ्ट सरकार की कार्रवाई का विरोध कर रही है।

इन राजनीतिक परिस्थितियों में माधवन नायर का पार्टी में शामिल होना 2019 के चुनाव को साधने की दिशा में मुनाफे का सौदा कहा जा सकता है। भगवान अयप्पा के लाखों भक्तों के साथ खड़े होकर भाजपा निश्चित तौर पर उनकी संवेदनाएं अपनी ओर खींचने में कामयाब होगी जो 2019 के लोकसभा चुनाव में उसके लिए बड़े वोटशेयर के रूप में तब्दील होकर सामने आ सकता है। बता दें कि 2003 से 2009 तक माधवन नायर इसरो के प्रमुख रहे थे। उनके नेतृत्व में संस्थान ने 27 मिशन चलाए। नायर ने चंद्रयान मिशन को भी हेड किया था। इसके अलावा वह कई संस्थाओं को हेड कर चुके हैं और 26 जनवरी 2009 को उन्हें भारत के दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App