हरियाणाः किसानों के समर्थन में धरनास्थल पहुंचे पूर्व CM, पर न मिला माइक; खफा हो बिन बोले लौटे

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ हरियाणा के जींद जिले में प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में धरनास्थल पर पहुंचे प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला को उन्हें संबोधित करने के लिये माइक नहीं दिया गया, जिससे वह नाराज होकर बिना बोले ही वापस लौट गये।

farmer protest,OP Chautala
किसान अपनी मांगों को लेकर पिछले कई महीनों से डटे हुए हैं (फाइल फोटो)। Source- Indian Express

कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलनरत किसानों द्वारा हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला के धरनास्थल पर पहुंचकर बिना बोले ही वापस लौटने का मामला सामने आया है।केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ हरियाणा के जींद जिले में प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में धरनास्थल पर पहुंचे प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला को उन्हें संबोधित करने के लिये माइक नहीं दिया गया, जिससे वह नाराज होकर बिना बोले ही वापस लौट गये।

धरना स्थल पर पहुंचते ही चौटाला का स्वागत किया गया और मंच के सामने बैठने के लिए कुर्सी दी गई लेकिन संयुक्त किसान मोर्चा के पदाधिकारियों ने उन्हें माइक नहीं दिया इससे नाराज चौटाला बिना बोले ही लौट गए।पार्टी सूत्रों ने बताया कि पूर्व मुख्यमंत्री का यहां आने का कार्यक्रम एक सप्ताह पहले ही तय हो चुका था ।

संयुक्त किसान मोर्चा के पदाधिकारियों -कैप्टन भूपेंदर व सतबीर बरसोला – ने बताया कि उन्होंने पहले ही इनेलो के स्थानीय नेताओं को अवगत करा दिया था कि अब तक किसी भी राजनीतिक दल के नेता को यहां मंच साझा नहीं करने दिया गया है और चौटाला को भी मंच व माइक साझा नहीं करने दिया जाएगा। एक अन्य कार्यक्रम में खाप के प्रधान ओमप्रकाश कंडेला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को किसान एवं मजदूर विरोधी बताया ।

इस घटना के बाद इनेलो ने कहा कि पूर्व सीएम बोलने नहीं बल्कि सिर्फ राम-राम करने आए थे। इनेलो नेता करण सिंह अलेवा ने कहा कि यह पहले से तय था कि मंच व माइक साझा नहीं होगा। हमने वहां माइक की डिमांड भी नहीं की थी। चौटाला सिर्फ किसानों को राम-राम करने पहुंचे थे।

बताते चलें कि चौटाला इन दिनों किसानों से मुलाकात कर रहे हैं पिछले दिनों उन्होंने गाजीपुर बॉर्डर पर BKU के राकेश टिकैट से भी मुलाकात की थी। जहां उन्होंने मध्यावधि चुनाव की संभावना जताते हुए कहा था कि सरकार के सहयोगी उसे छोड़ने वाले हैं।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट