ताज़ा खबर
 

नसीरुद्दीन शाह के बयान को मिला पृथ्वीराज चव्हाण का साथ, कहा- धर्मनिरपेक्ष लोग डर के माहौल में जी रहे

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने नसीरुद्दीन का साथ देते हुए भाजपा पर हमला किया।

पृथ्वीराज चव्हाण और नसीरुद्दीन शाह, फोटो सोर्स- सोशल मीडिया

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में हुई हिंसा पर नसीरुद्दीन शाह का बयान काफी तूल पकड़ रहा है। सोशल मीडिया पर कुछ उनके बयान का समर्थन कर रहे हैं तो वहीं कुछ उनके इस बयान का जमकर विरोध कर रहे हैं। ऐसे में महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने नसीरुद्दीन का साथ देते हुए भाजपा पर हमला किया। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि धार्मिक आधार पर ध्रुवीकरण के लिए भाजपा की कोशिशों से धर्मनिरपेक्ष लोग डर के माहौल में जी रहे हैं।

क्या बोले चव्हाण
महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि शाह की बातों में दम है और इन पर गंभीरता से विचार किया जाना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि बुलंदशहर में भीड़ द्वारा की गई हिंसा की घटना और पांच राज्यों में हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बयानों से स्पष्ट हो गया है कि भाजपा धार्मिक आधार पर ध्रुवीकरण करना चाहती है। भाजपा को ये एहसास हो गया है कि जनता से उसकी वादाखिलाफी उसे चुनावों में महंगी पड़नी वाली है।

डर में जी रहे धर्मनिरपेक्ष लोग
इसके साथ ही चव्हाण ने कहा कि भारत के धर्मनिरपेक्ष लोग डर के माहौल में जी रहे हैं। अगर आगामी लोकसभा चुनावों में नरेन्द्र मोदी सरकार फिर से सत्ता में आ गई तो हमें डर है कि देश में न तो संविधान बचेगा और न ही जनतंत्र।

क्या बोले थे नसीरुद्दीन शाह
बता दें कि नसीरुद्दी शाह ने कहा था कि जहर फैलाया जा चुका है और अब इसे रोकना मुश्किल होगा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि इस जिन्न को फिरसे बोतल में बंद करना मुश्किल होगा। जो कानून को अपने हाथों में ले रहे हैं, उन्हे खुली छूट दे दी गई है। कई क्षेत्रों में हम ये तक देख रहे हैं कि एक गाय की मौत को एक पुलिस अधिकारी की मौत से ज्यादा तवज्जो दी गई। मैं अपने बच्चों के लिए चिंतित हूं क्योंकि कल को अगर भीड़ उन्हें घेरकर पूछती है कि तुम हिंदू हो या मुसलमान? तो उनके पास इसका कोई जवाब नहीं होगा। ये मुझे चिंतित करता है और मुझे नहीं लगता कि इन हालात में जल्द कोई सुधार होगा।

 

नहीं देंगे धार्मिक शिक्षा

बता दें कि नसीरुद्दीन शाह की पत्नी रत्ना पाठक हैं। ऐसे में शाह ने ये फैसला लिया है कि वो अपने बच्चों इमाद और विवान को धार्मिक शिक्षा नहीं देंगे, क्योंकि उनका ऐसा मानना है कि अच्छा या खराब होने का किसी धर्म से कोई लेना देना नहीं है। हालांकि हमने बच्चों को अच्छे और बुरे में फर्क बताया है, जिसमें हमारा विश्वास है। मैंने उन्हें कुरान शरीफ की कुछ आयतें पढ़ना भी सिखाया है क्योंकि मेरा मानना है कि इससे उच्चारण साफ होता है। ये वैसे ही है जैसे रामायण या महाभारत को पढ़ने से किसी का उच्चारण सुधरता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 1984 दंगा केसः 8 नाती-पोतों का हवाला दे की थी सरेंडर की समयसीमा बढ़ाने की गुहार, कोर्ट से सज्जन कुमार को झटका
2 Madhya Pradesh: BJP प्रत्याशी रहे सुधीर यादव के बिगड़े बोल- कहा, जिन गद्दारों के कारण हारा उनकी सजा है मौत
3 छन्नी लगा कर आधी-अधूरी कर्ज माफ़ी की, लेकिन वो ये जान लें कि मैं सोया नहीं हूं: शिवराज