ताज़ा खबर
 

25 साल सीएम रहे माणिक सरकार के पास नहीं है घर, पत्नी के साथ रहने पहुंचे पार्टी दफ्तर

त्रिपुरा चुनाव परिणाम के बाद जहां पूर्व कैबिनेट मिनिस्टर विधायक हॉस्टल में रह रहे हैं वहीं तीन पूर्व मंत्री वापस अपने गांव लौट गए।

त्रिपुरा के राज्यपाल तथागत राय के साथ माणिक सरकार। पार्टी की हार के बाद राजभवन पहुंचकर दिया इस्तीफा(Express Photo/Abhisek Saha)

त्रिपुरा का मुख्यमंत्री आवास खाली करने के बाद अब पूर्व सीएम माणिक सरकार अपनी पत्नी पांचाली भट्टाचार्जी (रिटायर्ड केंद्रीय कर्मचारी) के साथ सीपीएम दफ्तर के ऊपर स्थित दो कमरों के फ्लैट में रहेंगे। 25 साल त्रिपुरा के मुख्यमंत्री रहे माणिक सरकार के पास खुद का घर नहीं है। उन्होंने विधायकों के छात्रावास में रहने से भी इनकार कर दिया। त्रिपुरा सीपीएम के महासचिव ने बताया कि ‘पार्टी दफ्तर में बुनियादी न्यूनतम सुविधाएं हैं। इसमें कुछ भी अपवाद नहीं है। सीपीएम के अधिकर नेता भी सामान्य जिंदगी जीते हैं।’

माणिक सरकार, जिन्होंने अपनी पैतृक संपत्ति बहन को दी, वह भी पूर्व में पार्टी दफ्तर में ही रहा करती थीं। सरकार की पत्नी जमीन जायदाद की मालिक हैं लेकिन जमीन एक बिल्डर को सौंपे जाने से मामला विवादों में घिर गया। वहां निर्माणधीन इमारत का काम अभी पूरा नहीं हुआ है।

त्रिपुरा के नामित मुख्यमंत्री बिप्लब देव ने कहा कि एक पूर्व मुख्यमंत्री के रूप में माणिक सरकार अच्छा सरकारी आवास और अन्य प्रोटोकॉल सुविधाओं के हकदार है। उन्होंने कहा कि सूबे में विपक्ष के नेता को भी कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्राप्त होगा और वह भत्तों के हकदार होंगे।’

फोटो पर क्लिक कर जानें माणिक सरकार के पास कुल कितनी संपत्ति है।

उन्होंने आगे कहा कि हम त्रिपुरा में सरकार चलाने के लिए चुने गए हो सकते हैं, लेकिन मुझे लगता है कि एक नए त्रिपुरा के निर्माण के लिए उन्होंने (माणिक सरकार) बहुत बड़ी भूमिका निभाई है। भाजपा कभी भी सरकार के साथ पार्टी को समानता नहीं देती है। चुनाव परिणाम के बाद जहां पूर्व कैबिनेट मिनिस्टर विधायक हॉस्टल में रह रहे हैं वहीं तीन पूर्व मंत्री वापस अपने गांव लौट गए।

बता दें कि बिप्लब देव ने एक नोर्थ इंडिया महिला से शादी की है। उनकी पत्नी पार्लियामेंट हाउस स्थित स्टेट बैंक की शाखा में काम करती है। बिप्लब देव ने अपनी कुल संपत्ति 47 लाख रुपए घोषित की थी।

फोटो पर क्लिक कर पढ़े बिप्लब देव की प्रोफाइल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App