ताज़ा खबर
 

NGT ने MDMC को लगाई लताड़, छोटे बिल्डरों की जगह बड़े बिल्डरों पर करें कार्रवाई

राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) ने कंस्ट्रक्शन रूल्स के मामूली उल्लंघन पर जुर्माना वसूलने पर दक्षिणी दिल्ली नगर निगम (SDMC) को निर्देश दिया है कि बिल्डरों के खिलाफ कार्रवाई करे।

Author नई दिल्ली | May 22, 2016 3:58 PM
राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी)

राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) ने कंस्ट्रक्शन रूल्स के मामूली उल्लंघन पर जुर्माना वसूलने पर दक्षिणी दिल्ली नगर निगम (SDMC) को निर्देश दिया है कि बिल्डरों के खिलाफ कार्रवाई करे। NGT ने रियल स्टेट क्षेत्र के बड़े बिल्डरों के खिलाफ कार्रवाई की जगह छोटे प्लॉटों पर निर्माण करने वालों पर जुर्माना लगाए जाने पर नाराजगी जाहिर की। NGT अध्यक्ष न्यायमूर्ति स्वतंत्र कुमार की पीठ ने SDMC से पूछा, ”क्या आपने निर्माण नियमों के उल्लंघन के लिए किसी बिल्डर को चुनौती दी है? क्या आपने दक्षिणी दिल्ली में सी व्यावसायिक बिल्डर को पकड़ा है?”

Read Also: NGT का बिजली कंपनियों को आदेश, दिल्ली में पेड़ों पर लिपटे तार हटाए जाएं

गौरतलब है कि NGT की यह टिप्पणी वायु प्रदूषण से संबंधित एक मामले की सुनवाई के दौरान आई, जिसमें पिछले साल कई लोगों को कारण बताओ नोटिस जारी कर पूछा गया था कि क्यों न उन पर प्रदूषण फैलाने के लिए 50 हजार रूपये का पर्यावरण जुर्माना लगाया जाए। नोटिस प्राप्त करने वाले लोग जब पीठ के समक्ष पेश हुए तो उन्होंने नोटिसों को चुनौती दी और SDMC से निरीक्षण रिपोर्ट मांगी। हालांकि SDMC की ओर से वकील ने कहा कि अधिकारियों ने जगहों का भौतिक रूप से निरीक्षण किया था और उसके बाद मकानों के मालिकों को नोटिस जारी किए थे।

Read Also: NGT ने मांगी धूल प्रदूषण फैलाने वाले बिल्डरों की सूची

NGT ने SDMC के अधिवक्ता को निर्देश दिए कि वह संबंधित अधिकारी को कहें कि सुनवाई की अगली तारीख को निरीक्षण और संबंधित लोगों द्वारा किए गए उल्लंघन के रिकॉर्ड के साथ पेश हों। अधिकरण ने नगर निगमों को यह भी आदेश दिया कि वे इसके आदेशों के तहत मिले पर्यावरण मुआवजे का एक अलग खाता बनाएं और वे इसे उसकी अनुमति के बिना खर्च न करें। सुनवाई के दौरान एनजीटी ने मालिकों के प्लॉटों के आकार के आधार पर उल्लंघन करने वालों की जुर्माना राशि भी घटा दी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App