ताज़ा खबर
 

आसमान में थी इंडिगो की फ्लाइट, अचानक बजा फायर अलार्म, मच गई अफरातफरी

विमान को उड़ान भरने के केवल 15 मिनट बाद ही वापस चेन्नई हवाई अड्डे पर उतार दिया गया। विमान में 160 से ज्यादा यात्री सवार थे। विमान देर रात करीब एक बजकर 20 मिनट पर उड़ान भरी थी।

इंडिगो फ्लाइट, प्रतीकात्मक तस्वीर (फोटो सोर्स – इंडियन एक्सप्रेस)

चेन्नई से कुवैत जा रही इंडिगो की उड़ान में शुक्रवार को तड़के अचानक फायर अलार्म बज उठा। इससे वहां हड़कंप मच गया। विमान में सवार यात्रियों और क्रू मेंबर में अफरातफरी मच गई। पायलटों ने तत्काल सभी हवाई यातायात नियंत्रकों को आपात कोड 7700 भेजा और तुरंत इमरजेंसी घोषित कर दी। उन्होंने विमान को तुरंत उतारने का निर्णय लिया। इस वजह से विमान को उड़ान भरने के केवल 15 मिनट बाद ही वापस चेन्नई हवाई अड्डे पर उतार दिया गया। विमान में 160 से ज्यादा यात्री सवार थे। विमान देर रात करीब एक बजकर 20 मिनट पर उड़ान भरी थी।

स्मोक अलार्म आग लगने पर एक्टिव होता है : आम तौर पर स्मोक अलार्म (smoke alarm) अगर बिना आग लगे ही सक्रिय हो जाता है तो अफरा तफरी का माहौल बन जाता है। अगर यह जमीन पर होता है तो इसमें ज्‍यादा नुकसान नहीं उठाना पड़ता। लेकिन यदि ऐसा उड़ान भर रहे विमान में होता है तो यात्रियों में अफरातफरी मच जाती है। ऐसा ही हादसा चेन्नई से कुवैत जा रहे इंडिगो के विमान के साथ हुआ।

Hindi News Today, 01 November 2019 LIVE Updates: दिन भर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

शिकायत DGCA से भी की गई : दरअसल, विमान ने चेन्नई से जैसे ही उड़ान भरी, कुछ ही देर बाद उसकी आपातकालीन लैंडिंग करानी पड़ी। बताया जाता है कि कार्गो में स्मोक अलार्म एक्टिवेट हो गया था। विमान के उड़ान भरने के कुछ समय बाद ही तड़के सुबह इसकी लैंडिंग करानी पड़ी। बाद में जांच पड़ताल के बाद पता चला कि यह एक गलत अलार्म था। मामले की शिकायत नागर विमानन महानिदेशालय (Directorate General of Civil Aviation) के पास भी की गई है।

नियमों का पालन नहीं करने पर दो पायलट सस्पेंड हुए थे : अभी हाल ही में नागर विमानन महानिदेशालय (DGCA) ने रनवे के नियमों का पालन नहीं करने के आरोपों में इंडिगो के दो पायलटों को तीन महीने के लिए सस्‍पेंड कर दिया था। इन पर आरोप था कि एयर ट्रैफिक कंट्रोल (ATC) के निर्देशों को इन्होंने पालन नहीं किया। जांच में भी पायलटों की मिली। इससे पहले DGCA ने स्‍पाइस के दो पायलटों को चार माह के लिए निलंबित किया था। यह कार्रवाई 13 जून को हैदराबाद से जयपुर जा रही विमान में तकनीकी खराबी के बाद की गई थी। बीते 31 अगस्‍त को ATC के निर्देश को सही तरीके से नहीं सुन पाने के कारण DGCA एक पायलट को करीब तीन महीने के लिए सस्‍पेंड कर चुका है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 Jharkhand Elections 2019: चुनाव आयोग ने किया तारीखों का ऐलान, 5 चरणों में होगा मतदान, 23 दिसंबर को आएगा रिजल्ट
2 खुले में शौच करते पकड़े जाने पर मिली बड़ी सजा, पंचायत ने रोक दिया 20 परिवारों का राशन
3 MP: सांप के काटने पर झाड़-फूंक से हो रहा सरकारी अस्पताल में इलाज, वीडियो सामने आया तो डॉक्टरों ने यूं दी सफाई