ताज़ा खबर
 

UP: बाल सुधार गृह से 5 बंदी हुए फरार, मीडिया से बोले कैदी- यहां पर भूत का है खतरा

सोमवार (20 मई) तड़के बाल सुधार गृह से पांच बाल कैदी खिड़की की जाली काट कर उसमे चद्दर बांधकर फरार हो गए।

कानपुर का बाल संप्रेक्षण गृह और बंदियों द्वारा लिखी गई चिट्टी, फोटो सोर्स- स्थानीय

सोमवार (20 मई) तड़के बाल सुधार गृह से पांच बाल कैदी खिड़की की जाली काट कर उसमे चद्दर बांधकर फरार हो गए। जब सुबह बाल बंदियों की गिनती की गई तो पांच बंदी कम निकले। इसके बाद संप्रेक्षण गृह में हडकंप मच गया। जब कर्मचारियों ने जांच पड़ताल की तो देखा कि खिड़की में लगी लोहे की सरिया को काट कर भाग गए है। सूचना पर पहुंची नौबस्ता पुलिस ने बाल बंदी गृह का निरीक्षण किया। इसके साथ ही फरार बंदियों की तलाश शुरू कर दी गई। जब मीडिया कर्मी बाल बंदी गृह पहुंचे तो बंदियों ने एक लिखी हुई पर्ची फेंकी जिसमे लिखा था कि यहां पर बंदियों को प्रताड़ित किया जाता है। इसके साथ ही यहां पर भूत का भी खतरा है।

National Hindi News, 20 May 2019 LIVE Updates: दिनभर की हर बड़ी खबर सिर्फ एक क्लिक पर

कहां का है मामला: नौबस्ता थाना क्षेत्र स्थित बौद्ध नगर में राजकीय संप्रेक्षण गृह है जिसे बाल सुधार गृह के नाम से भी जाना जाता है। इस बाल सुधार गृह में लगभग 42 बाल बंदी है। इन बाल बंदियों से केयर टेकर और कर्मचारियों समेत आसपड़ोस के लोग भी परेशान है। बाल सुधार गृह के कर्मचारी भी बाल बंदियों से डरते है। इसके साथ ही वहां से गुजरने वाली महिलाओ और लड़कियों पर अश्लील फब्तियां कसते हैं। आलम ये है कि बाल सुधार गृह की आसपास की छतों पर महिलाएं लड़कियों ने जाना बंद कर दिया है।

बंदियों से परेशान हैं पड़ोसी: पड़ोसी जीवन लाल राजपूत के मुताबिक इस बाल बंदी गृह में रहने वाले बंदी बहुत ही बत्तमीज है। यहां स्टाफ उनसे खुद डरता है ,महिलाए और लड़कियां यदि निकलती है तो उस पर अश्लील फब्तियां कसते है। खिडकियों से राहगीरों को गलियां देते है। इसके साथ ही बाल बंदियों के दोस्त आते है तो ये बंदी ऊपर से रस्सी में झोला बांधकर नीचे लटकाते है। इनके मिलने जुलने वाले आते है वो खाने पीने की सामग्री के साथ ही नशे की भी सामग्री देते है।

भूत का खतरा: वहीं बाल बंदियों ने एक पर्ची लिखकर मीडिया कर्मियों की तरफ फेंकी। जिसमे लिखा था कि सर पांच लड़के यहां से भागे है उसकी वजह कुछ और है। यहां पर बच्चो को मार कर और डरा कर रखा जाता है और खाना भी अच्छा नहीं मिलता है। सभी लड़के बहुत डरे हुए हैं जहां पर जहां खाना बनता है वहां पर भूत का खतरा है। हम लोग विरोध करते है तो ट्रांसफर करने की धमकी दी जाती है।

 

पुलिस का क्या है कहना: गोविंद नगर सीओ आरके चतुर्वेदी के मुताबिक बाल संप्रेक्षण गृह से 5 किशोर भागे है। खिड़की की रॉड काट कर भागे है। उनकी तलाश की जा रही है। इसके साथ ही ये भी जानकारी जुटाई जा रही है कि उनके पास आरी कैसे पहुंची।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X