ताज़ा खबर
 

गुजरातः 5 पुराने कांग्रेसी विधायकों को बीजेपी ने बनाया अपना, राज्‍यसभा चुनाव से पहले दिया था इस्‍तीफा

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष जीतू वाघाणी और अन्य वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में जीतू चौधरी, प्रद्युम्नसिंह जाडेजा, जे वी काकड़िया, अक्षय पटेल और बृजेश मेरजा ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की।

राज्‍यसभा चुनाव से पहले इस्‍तीफा देने वाले आठ विधायकों में से पांच भाजपा में शामिल हो गए हैं। (ANI)

कांग्रेस को गुजरात में एक बड़ा झटका लगा है। राज्‍यसभा चुनाव से पहले इस्‍तीफा देने वाले आठ विधायकों में से पांच भाजपा में शामिल हो गए हैं। इन सभी विधायकों ने मार्च और जून में कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दिया था। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष जीतू वाघाणी और अन्य वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में जीतू चौधरी, प्रद्युम्नसिंह जाडेजा, जे वी काकड़िया, अक्षय पटेल और बृजेश मेरजा ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की।

निर्वाचन आयोग ने जैसे ही राज्यसभा चुनाव की नई तारीख 19 जून का एलान किया था, उसके कुछ दिन के बाद ही पटेल, मेरजा और चौधरी ने इस्तीफा दे दिया था। जाडेजा और काकड़िया ने मार्च में विधानसभा की सदस्यता से त्यागपत्र दे दिया था। गुजरात में राज्यसभा चुनाव पहले 26 मार्च को होना था लेकिन कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर देशभर में लगाये गये लॉकडाउन के चलते इसे टाल दिया गया था। इन पूर्व विधायकों का पार्टी में स्वागत करते हुए वाघाणी ने कहा कि उनकी मौजूदगी स्थानीय स्तर पर पार्टी को मजबूती प्रदान करेगी। उन्होंने यह विश्वास भी जताया कि इन सभी विधायकों के इस्तीफे से रिक्त हुई विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में भाजपा अपनी जीत का परचम लहराएगी।

वाघाणी ने कहा कि कांग्रेस की अंदरूनी गुटबाजी और राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर पर कमजोर नेतृत्व के चलते इन विधायकों ने कांग्रेस छोड़ने का फैसला किया। उन्होंने कहा, ‘‘यह पहला मौका नहीं है। इससे पहले भी कई मौकों पर राज्य में कांग्रेस के विधायकों ने भाजपा का दामन थामा है। लगातार ऐसा होने के बावजूद, कांग्रेस यदि भाजपा को जिम्मदार ठहराती है तो मैं उन्हें कहना चाहूंगा कि वे गुजरात में अपनी दुकान बंद कर दें।” उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस में नेतृत्व का अभाव है और गुटबाजी भी है। विधायकों के इस्तीफे के लिए कांग्रेस खुद जिम्मेदार है।’’

गत मार्च में कांग्रेस से इस्तीफा देने वाले तीन अन्य विधायकों में सोमा पटेल, प्रवीण मारू और मंगल गावित शामिल हैं। वाघाणी ने कहा कि यदि ये तीन पूर्व विधायक भी भाजपा में शामिल होते हैं तो पार्टी उनका स्वागत करेगी। कांग्रेस अध्‍यक्ष अमित चावडा ने कहा कि भाजपा उनकी पार्टी के विधायकों को लालच व भय दिखाकर तोड रही है, जो आज साबित हो गया है। राज्‍य की पांच विधानसभा लींबडी, अबडासा, गढडा, धारी व डांग सीट को खाली हुए सितंबर 2020 में छह माह पूरे हो जाएंगे इसलिए इन पर इससे पहले उपचुनाव कराना होगा। राज्‍य चुनाव आयोग ने भी उपचुनाव की तैयारियां शुरू कर दी है।

कांग्रेस ने 2017 के गुजरात विधानसभा चुनाव में 77 सीटें जीती थीं। अब विधानसभा में कांग्रेस के सदस्यों की संख्या घटकर 65 रह गई है। पिछले कुछ सालों में कांग्रेस के 12 विधायकों ने पार्टी छोड़ी है। इनमें से अधिकांश विधायक भाजपा में शामिल हुए है।

(भाषा इनपुट के साथ)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मध्यप्रदेश: क्वारैंटाइन अवधि के दौरान प्रवासी मजदूरों ने ऐसे बदल दी स्कूल की सूरत, लोग कर रहे तारीफ
2 आंध्र प्रदेश की फैक्ट्री में अमोनिया गैस लीक होने से मैनेजर की मौत, 3 अस्पताल में भर्ती
3 तमिलनाडुः पुलिस हिरासत में पिता-पुत्र की मौत पर भड़का लोगों का गुस्सा, लॉकडाउन में तय समय से 15 मिनट ज्यादा खुली रखी थी दुकान
राशिफल
X