ताज़ा खबर
 

2.25 करोड़ की ठगी करने वाली बाइक बोट कंपनी में आगजनी, बैंक चेक से भरे बैग व कम्प्यूटर जले मिले

'बाइक बोट' मोटरसाइकिल टैक्सी सर्विस के दफ्तर से सौ मोटरसाइकिलें, बैंक चेक से भरे पांच बैग और जले हुए कंप्यूटर बरामद किए गए हैं। यह कंपनी निवेशकों को लुभाने के लिए एक साल में दोगुने रिटर्न के वादे के साथ बहुस्तरीय मार्केंटिंग योजना 'बाइक बोट' लेकर आई थी।

Author नोएडा | June 16, 2019 9:16 AM
प्रतीकात्मक फोटो फाइल फोटो- इंडियन एक्सप्रेस

‘बाइक बोट’ मोटरसाइकिल टैक्सी सर्विस के मुख्यालय से सौ मोटरसाइकिलें, बैंक चेक से भरे पांच बैग और जले हुए कंप्यूटर मिले हैं। बाइक बोट पर 2.25 लाख निवेशकों के साथ करीब 1,400 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का आरोप है। पुलिस ने यह जानकारी दी है।गौतम बुद्ध नगर के एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि कि ग्रेटर नोएडा में गार्वित इनोवेटिव प्रमोटर्स लिमिडेट कंपनी निवेशकों को लुभाने के लिए एक साल में दोगुने रिटर्न के वादे के साथ बहुस्तरीय मार्केंटिंग योजना ‘बाइक बोट’ लेकर आई थी।

एसआईटी ने मारा छापाःकृष्णा ने पत्रकारों से कहा कि कंपनी ने निवेशकों से मोटरसाइकिल टैक्सी के लिए 62,100 रुपये निवेश करने के लिए कहा और उन्हें लंबे समय के लिए निवेश राशि को दोगुना करने के अलावा मासिक रिटर्न का आश्वासन दिया।एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि शनिवार (15 जून) को नोएडा पुलिस के विशेष जांच दल (एसआईटी) ने ग्रेटर नोएडा में बाइक बोट के मुख्यालय पर छापेमारी की।उन्होंने कहा कि छापेमारी बाइक बोट के प्रमुख संजय भाटी से पूछताछ के बाद की गई। संजय ने अपनी कंपनी पर पुलिस की बढ़ती कार्रवाई के बीच हाल ही में अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया था। कृष्ण ने कहा कि छापेमारी के दौरान एसआईटी को सौ मोटरसाइकिलें, बैंक चैक से भरे पांच बैग, जले हुए कंप्यूटर तथा कुछ कागजात मिले।

National Hindi News, 15 JUNE 2019 LIVE Updates: दिन भर की खबरें जानने के लिए यहां क्लिक करें

जानबूझकर जला दिया था कार्यालयःपुलिस अधिकारी ने बताया, ‘यह पता चला है कि उन्होंने पुलिस जांच से बचने के लिए कुछ सप्ताह पहले जानबूझकर अपने कार्यालय को जला दिया था।’ एसएसपी ने कहा कि आगे की कार्रवाई की जा रही है।उन्होंने बताया कि कंपनी के खिलाफ नोएडा के थाना दादरी में 33 मुकदमे दर्ज हैं, जबकि देश के विभिन्न जगहों पर इस कंपनी के खिलाफ करीब अब तक करीब 400 मुकदमे दर्ज किए जा चुके हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App