ताज़ा खबर
 

IAS अनुराग तिवारी की मौत के मामले में FIR दर्ज, डीजीपी ने कहा- करेंगे सीबीआई जांच की सिफारिश

अनुराग तिवारी के भाई मयंक तिवारी जांच से संतुष्ट नजर नहीं आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर इस केस में कुछ खास प्रगति नहीं होती है तो वे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से भी मुलाकात करेंगे।

IAS अनुराग तिवारी के परिवार वालों ने सीएम से की मुलाकात (Source-pti)

कर्नाटक कैडर के आईएएस अधिकारी अनुराग तिवारी की मौत के मामले में लखनऊ के हजरतगंज थाने में FIR दर्ज कर लिया गया है। इस मामले में लखनऊ पुलिस ने अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। आज (22 मई) को अनुराग तिवारी का परिवार सीएम योगी आदित्य नाथ से मिला और पूरी घटना की जानकारी दी। अनुराग तिवारी के परिवार वालों की मांग है कि इस मामले की सीबीआई जांच की जाए। इस सीएम ने आश्वासन दिया कि यूपी पुलिस इस मामले की निष्पक्ष जांच करेगी और सीबीआई जांच की उनकी मांगों पर भी विचार किया जाएगा। डीजीपी मलखान सिंह ने कहा है कि मामले की जांच सीबीआई को सौंपे जाने की सिफारिश सरकार की तरफ से की जाएगी। सीएम से मिलने पहुंचे आईएएस अधिकारी अनुराग तिवारी के भाई ने कहा कि उनके भाई की सामान्य मौत नहीं हुई है बल्कि उनकी हत्या की गई है। अनुराग के भाई ने कहा कि उसके मोबाइल का लॉक तोड़ा गया है और इस मामले की जांच होनी चाहिए।

बता दें कि अनुराग तिवारी कर्नाटक कैडर के आईएएस अधिकारी थे। अनुराग के परिवार वालों का कहना है कि वे किसी घोटाले की जांच कर रहे थे और जल्द ही उसका पर्दाफाश करने वाले थे, लेकिन इससे पहले ही वे हजरतगंज स्थित मीराबाई सरकारी गेस्ट हाउस में उनकी लाश मिली थी। इस बीच इस मामले से जुड़ा एक सीसीटीवी फुटेज आने से सनसनी मच गई है। 16 मई के इस वीडियो में अनुराग तिवारी लखनऊ के आर्यन रेस्तरां में लखनऊ डेवलपमेंट अथॉरिटी के वाइस चेयरमैन प्रभु नारायाण सिंह के साथ दिख रहे हैं। गेस्ट हाउस में भी अनुराग तिवारी इन्ही के साथ ठहरे हुए थे।

वीडियो फुटेज के मुताबिक रात को 10 बजकर 10 मिनट पर दोनों डिनर कर बाहर निकले। इस वीडियो में कुछ भी ऐसा नहीं है जिसे संदेहास्पद कहा जा सके। 17 मई को अनुराग तिवारी की मौत की खबर मीडिया में आई थी।अनुराग तिवारी के भाई मयंक तिवारी जांच से संतुष्ट नजर नहीं आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर इस केस में कुछ खास प्रगति नहीं होती है तो वे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से भी मुलाकात करेंगे। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दीपक कुमार ने 18 मई इस मामले की जांच के लिये एक विशेष जांच दल कोतवाली के सर्किल आफिसर के नेतृत्व में गठित की थी। एसआईटी से 72 घंटे में रिपोर्ट सौंपने को कहा गया था लेकिन एसआईटी ने कल शाम 72 घंटे बाद भी जांच रिपोर्ट नहीं सौंपी थी। इस बारे में एसएसपी ने कहा था एसआईटी ने अभी तक अपनी रिपोर्ट नही सौंपी है, क्योंकि एसआईटी टीम घटना के हर पहलू की बारीकी से जांच कर रही है। इस काम में फोरेंसिक साइंस लैबोरेटरी टीम की भी मदद ली जा रही है।

 

अरुण जेटली ने अरविंद केजरीवाल पर ठोका 10 करोड़ रुपये की मानहानि का दूसरा मुकदमा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App