ताज़ा खबर
 

फेमिनिज्म-मी टू से तंग हुए लोग? कर्नाटक में हुई ‘पिशाचिनी मुक्ति पूजा’, आयोजक बोले- ये ‘परिवार बचाओ आंदोलन’

पिशाचिनी मुक्ति पूजा में बाकायदा 'फेमिनिज्म' और 'मी टू इंडिया' का पिंडदान भी किया गया। इनका कहना है कि 'मी टू' आंदोलन भारत में लैंगिक समानता के लिए सकारात्मक की अपेक्षा नकारात्मक ज्यादा रहा।

प्रतीकात्मक तस्वीर (इंडियन एक्सप्रेस)

नारीवाद यानी फेमिनिज्म (Feminism) और मी टू मूवमेंट (Me Too India) पिछले कुछ सालों से चर्चा के अहम मसलों में शुमार है। कुछ लोग इसे महिला सशक्तिकरण की दिशा में सकारात्मक कदम मानते हैं तो कुछ लोग इसे मुसीबत का सबब मानते हैं। कर्नाटक में इसे लेकर एक अनोखा मामला सामने आया है। दरअसल यहां एक संगठन ने पिछले दिनों नारीवाद को खत्म करने के लिए ‘पिशाचिनी मुक्ति पूजा’ का आयोजन किया। इसे ‘परिवार बचाओ आंदोलन’ बताकर पूरे विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना की गई। इस कार्यक्रम को लेकर सोशल मीडिया पर जबर्दस्त प्रतिक्रियाएं देखने को मिलीं।

फेसबुक पर जारी की गई विज्ञप्तिः इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक 22 सितंबर 2019 को दोपहर साढ़े 12 बजे हुई इस पूजा के बाद फेसबुक पर प्रेस रिलीज भी शेयर की गई। ‘द स्पॉइल्ट मॉडर्न इंडिया वूमन’ नाम के फेसबुक पेज से जानकारी साझा की गई। इस रिलीज के कैप्शन में लिखा था, ‘आएं और इसके बारे में सोचें।’

MeToo ‘द स्पॉइल्ड मॉडर्न इंडियन वूमन’ फेसबुक पेज पर शेयर रिलीज

40 एनजीओ ने मिलकर चलाई मुहिमः इसमें इस मुहिम को ‘भारती परिवार बचाओ आंदोलन’ नाम दिया गया। बताया जा रहा है कि इसे पारिवारिक सद्भाव और लैंगिक समानता के लिए काम करने वाले 40 एनजीओ ने मिलकर शुरू किया है। इनका कहना है कि इस तरह की विचारधारा ने देश में लैंगिक भेदभाव को घटाने की बजाय बढ़ाया है।

फेमिनिज्म-मी टू का पिंडदान भी किया गयाः रिलीज के मुताबिक पिशाचिनी मुक्ति पूजा में बाकायदा ‘फेमिनिज्म’ और ‘मी टू इंडिया’ का पिंडदान भी किया गया। इनका कहना है कि ‘मी टू’ आंदोलन भारत में लैंगिक समानता के लिए सकारात्मक की अपेक्षा नकारात्मक ज्यादा रहा। रिपोर्ट के मुताबिक यह आयोजन सिर्फ कर्नाटक में नहीं बल्कि इसी दिन देश के लगभग 50 अन्य स्थानों पर भी किया गया। बता दें कि इस कार्यक्रम के आयोजन का फैसला 11वीं अखिल भारतीय पुरुष महासभा में लिया गया था। सोशल मीडिया पर ‘फेमिनिज्म पिशाचिनी’ट्रेंड करने लगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 एक और राज्य में खस्ताहाल हुई कांग्रेस, पार्टी अध्यक्ष के बाद 10 नेताओं ने दिया इस्तीफा, नए दल के आसार
2 पूर्व IAS अफसर कन्नान गोपीनाथन का आरोप- मुझे सावित्रीबाई फुले पुणे विश्वविद्यालय में नहीं दी गई एंट्री
3 ED के ऐक्शन पर बोले NCP चीफ शरद पवार- दिल्ली की ‘गद्दी’ के आगे झुकूंगा नहीं, संविधान पर है यकीन
ये पढ़ा क्या?
X
Testing git commit