ताज़ा खबर
 

गुजरात के सबसे बड़े अफसर ने कहा- किसान हैं बदहाल, युवा बेरोजगार इसलिए पड़े बीजेपी के खिलाफ वोट

गुजरात के चीफ सेक्रेट्री ने विधानसभा चुनावों में सत्तारूढ़ दल के खिलाफ वोट पड़ने के दो अहम कारण बताए हैं।

गुजरात के मुख्य सचिव जेएन सिंह गुरुवार को कहा है कि बीजेपी के खिलाफ हुई वोटिंग लोगों के गुस्से और नाराजगी के रूप में सामने आई है। (फाइल फोटो)

गुजरात के चीफ सेक्रेट्री जेएन सिंह ने कहा है कि किसानों की बदलहाल स्थिति और युवाओं का बेरोजगार होना ही वे दो कारण है, जिनके चलते लोगों ने राज्य में बीजेपी के खिलाफ विधानसभा चुनाव में वोट डाले। लोगों ने ऐसा कर के सत्तारूढ़ दल के प्रति अपना गुस्सा और नाराजगी जाहिर की है। सिंह ने ये बातें गुरुवार को एक कार्यक्रम के दौरान कहीं। आपको बता दें कि गुजरात में हाल ही में विधानसभा चुनाव हुए हैं, जिसमें सत्तारूढ़ दल को कुल 182 सीटों में से 99 सीटें हासिल हुई थीं। जबकि, साल 2012 में यह आंकड़ा 115 सीटों तक पहुंचा था। विस चुनाव में इस बार पार्टी को 100 सीटें भी हासिल न हो पाने और पार्टी के खिलाफ वोट पड़ने को लेकर गुजरात के सबसे बड़े अफसर की यह टिप्पणी ऐसे में बड़ा बयान मानी जा रही है। सिंह गुरुवार को एपैरल एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल (एईपीसी) के 12वें रीजनल ऑफिस के उद्घाटन समारोह में पहुंचे हुए थे।

उन्होंने इस दौरान कहा, “चुनाव के दौरान जो दो चीजें स्पष्ट रूप से सामने आई हैं। पहला- किसानों की बदहाल स्थिति। गुजरात भर में किसान परेशान हैं। खासकर सौराष्ट्र में। उन्होंने बीजेपी के खिलाफ वोट देकर अपनी नाराजगी और गुस्सा जाहिर किया है। ऐसा क्यों हुआ? चूंकि लोगों में इस तरह की भावना थी कि चीजें उनके लिए लाभकारी साबित नहीं हुईं। जबकि दूसरा अहम कारण बेरोजगारी है। युवाओं को नौकरी न मिलना भी पार्टी के खिलाफ वोट पड़ने की एक वजह है। हर जगह बेरोजगारी है।”

उन्होंने आगे कहा, “मुझे लगता है कि यह एक पहल है। यहां आने वाली एईपीसी गारमेंट सेक्टर को रफ्तार देगी। गारमेंट सेक्टर में एक बार बड़े स्तर पर उतरने पर यह बड़ी संख्या में रोजगार को जन्म देगा। आशा है कि गुजरात आने वाले समय में गारमेंट के लिहाज से बड़ा हब बनेगा। गुजरात भर में बेरोजगारी को लेकर काम किया जाना चाहिए।” गुजरात विधानसभा चुनावों के नतीजों में बीजेपी को 99 सीटें मिली थीं। जबकि, कांग्रेस पार्टी के खाते में 77 सीटें आई थीं। खासकर सौराष्ट्र क्षेत्र में बीजेपी को हार का सामना करना पड़ा था, जहां उसे 48 में से सिर्फ 19 सीटें ही मिलीं। जबकि कांग्रेस 28 सीटें हासिल करने में कामयाब हुई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App