ताज़ा खबर
 

4 रुपये महीना और 48 रुपये में पूरे साल गुजारा करता है यह किसान परिवार! ये रहा सरकारी सुबूत

चंद्रिका सिंह का यह आय प्रमाण पत्र सोशल मीडिया पर भी खूब वायरल हो रहे हैं और एक किसान की इतनी कम आय पर सभी लोग हैरानी जता रहे हैं। बहरहाल हरदोई के जिलाधिकारी विमल अग्रवाल ने मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं।

उत्तर प्रदेश के हरदोई के किसान की सालाना आय सिर्फ 48 रुपए! (express photo)(प्रतीकात्मक तस्वीर)

देश में किसानों की दुर्दशा से सभी वाकिफ हैं, लेकिन किसी किसान की बात मासिक आय सिर्फ 4 रुपए हो तो इस खबर पर यकीन करना थोड़ा मुश्किल हो जाता है, लेकिन ऐसा सच में है और बाकायदा इस बात का सरकारी प्रमाण पत्र भी है। दरअसल उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले के संडीला इलाके के गांव अल्लीपुर में रहने वाले एक किसान चंद्रिका सिंह ने हाल ही में हरदोई तहसील से अपना आय प्रमाण पत्र बनवाया है। इस आय प्रमाणपत्र के अनुसार, किसान चंद्रिका सिंह की परिवार के सभी स्त्रोतों से ज्ञात कुल आय 4 रुपए मासिक और 48 रुपए सालाना है।

हैरानी की बात है कि इतनी कम आय में घर खर्च चलाना लगभग असंभव है। इसके बावजूद इस आय प्रमाण पत्र पर तहसीलदार पंकज सक्सेना के हस्ताक्षर हैं। चंद्रिका सिंह का यह आय प्रमाण पत्र सोशल मीडिया पर भी खूब वायरल हो रहे हैं और एक किसान की इतनी कम आय पर सभी लोग हैरानी जता रहे हैं। बहरहाल हरदोई के जिलाधिकारी विमल अग्रवाल ने मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं। उल्लेखनीय है कि देश में किसानों की आय को बढ़ाने की काफी कोशिश की जा रही हैं, लेकिन अभी तक उनमें सफलता नहीं मिल सकी है। अब उत्तराखंड सरकार ने इस दिशा में एक योजना तैयार की है, जिससे राज्य के किसानों की आय को दोगुना किया जा सकेगा।

uttar pradesh

उत्तराखंड में किसानों को भेड़-बकरी पालन, मछली पालन, डेयरी व्यवसाय, रेशम उद्योग, जड़ी-बूटी, मुर्गी पालन आदि करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। इसके लिए नेशनल को-ऑपरेटिव डेवलेपमेंट कारपोरेशन, उत्तराखंड को तीन साल में करीब 3641 करोड़ रुपए देगा। सोमवार को ही उत्तराखंड के मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह की अध्यक्षता में किसानों की आय दोगुनी करने की योजना बनायी गई। इसके लिए सरकार को-ऑपरेटिव कलेक्टिव फार्मिंग, को-ऑपरेटिव पार्टनरशिप और को-ऑपरेटिव कॉर्पोरेट पार्टनरशिप की नई पहल करेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App