ताज़ा खबर
 

जब मिट्टी से चमकी किसान की किस्मत, खेत में मिला 50 लाख का हीरा

मध्य प्रदेश के पन्ना जिले के सरकोहा गांव में किसान प्रकाश सिंह को हीरा मिला है। इसकी कीमत करीब 50 लाख रुपया बताई जा रही है।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। (AP Photo)

मध्य प्रदेश के पन्ना जिले में रातों-रात एक व्यक्ति की किस्मत चमक गई। शुक्रवार (14 सितंबर) को हीरा खादान चलाने वाले एक ग्रामीण को उच्च कोटि का हीरा मिला। इस हीरे की कीमत बाजार मूल्य के अनुसार करीब 50 लाख बताई जा रही है। खनिज विभाग ने इस हीरे का वजन 12 कैरेट 58 सेंट बताया है। लंबे समय बाद कीमती हीरा मिलने पर पन्ना के हीरा अधिकारी संतोष सिंह ने कहा, “जिला मुख्यालय से करीब 25 किलोमीटर दूर सरकोहा गांव में किसान प्रकाश सिंह को हीरा मिला है। इस हीरे को देखकर यहां के कर्मचारी भी खुश हैं। करीब चार साल बाद कार्यालय में इतना बड़ा हीरा जमा करवाया गया है। कई खादानों के बंद हो जाने से हीरा उद्योग बंद होने के कगार पर पहुंच गया था लेकिन एक बार फिर इतना बड़ा हीरा मिलने से नई उम्मीद जगी है। यह साफ क्वालिटी का हीरा है। अगले महीने इसकी नीलामी होने की उम्मीद है।”

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पन्ना जिले के निवासी किसान प्रकाश शर्मा अपने दो दोस्तों के साथ मिलकर खनिज विभाग की इजाजत से खादान चला रहे थे। शुक्रवार की सुबह हीरे बीनते समय अचानक उनकी नजर चमकदार हीरे पर पड़ी। वे उसे लेकर खनिज कार्यालय पहुंचे। यहां उसकी कीमत सुनकर वे आवाक रह गए। उन्होंने हीरे को खनिज विभाग के कार्यालय में ही जमा करवा दिया।

खादान से हीरा प्राप्त करने वाले प्रकाश शर्मा काफी खुश हैं। उन्हें उम्मीद है कि अब उनकी गरीबी दूर हो जाएगी। बुढ़ापे में आराम मिलेगा। अपने बच्चे को अच्छी शिक्षा देकर आगे बढ़ाएंगे। वे कहते हैं, “हीरे की नीलामी के बाद जो पैसे मिलेंगे, उससे कोई बिजनेस शुरू करूंगां ताकि भविष्य में किसी तरह की परेशानी न हो। बच्चों के भविष्य को अच्छी शिक्षा दिलाएंगे।” बता दें कि पन्ना जिले में विभाग की इजाजत से निजी खेतों में भी हीरे की खादान चलती है। जिन खेतों में हीरा मिलता है, उस खेत के मालिक को हीरा बेचने से मिली राशि का 20 से 25 प्रतिशत हिस्सा मिलता है। हीरा मिलने की खबर के बाद खादान कार्यालय में पट्टा लेने वालों की लाइन लगनी शुरू हो गई है। एक बार फिर से सभी लोग हीरे की खादान में अपनी किस्मत आजमाना की कोशिश में लगे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App