ताज़ा खबर
 

यूपीः सीएए विरोधी आंदोलन में हुआ था गिरफ्तार, 9 महीने बाद हुआ रिहा; कानूनी लड़ाई से कर्जे में डूबा परिवार

तौसीफ के मुताबिक नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध में हुए आंदोलन में वह शामिल नहीं था। घटना के समय वह अपने ननिहाल में था। लेकिन पुलिस जबरन उसको गिरफ्तार करके जेल में डाल दी।

सीएए विरोधी आंदोलन मेंं नौ महीने बाद जेल से छूटा तौसीफ।

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के तहत पिछले साल देश भर में शुरू हुए आंदोलन के दौरान लखनऊ में गिरफ्तार हुए ऑटो चालक अब्दुल तौसीफ नौ महीने बाद जब छूटकर घर आया तो पूरा परिवार कर्जे में डूबा मिला। उसकी रिहाई के लिए कानूनी लड़ाई लड़ने में पूरा परिवार गंभीर आर्थिक संकट से जूझ रहा है। अब जब तौफीक की जमानत हो गई है और वह जेल से बाहर आ गया है, लेकिन घर की कुर्की करने का नोटिस आ गया है। इससे वह परेशान हैं।

तौसीफ के मुताबिक नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध में हुए आंदोलन में वह शामिल नहीं था। घटना के समय वह अपने ननिहाल में था। उसने बताया कि अचानक एक दिन उसके घर पुलिस पहुंची और उसके बारे में पूछताछ की। घर वालों ने बताया कि वह ननिहाल में है तो पुलिस वालों ने कहा उसको सरेंडर कराओ। उसके खिलाफ मामला है। पुलिस उसके बड़े पापा के बेटे को उठा ले गई। पुलिस ने शाम को घर पर फोन कर कहा कि तौसीफ को भेज दो उसको छोड़ देंगे।

तौसीफ के मुताबिक पुलिस दो दिन तक हिरासत में रखकर उसका टार्चर की और जबरन उससे आंदोलन में शामिल लोगों का नाम बताने को कहा। इसके बाद उसे जेल भेज दिया गया। तौसीफ ने बताया कि पुलिस ने उसे फर्जी आरोप में नौ महीने जेल में रखा।

तौसीफ के पिता के मुताबिक अब घर चलाने के लिए कोई चारा नहीं बचा है। तौसीफ का कहना है कि वह अब केस खत्म होने का इंतजार कर रहा है। वह खत्म हो जाए तो वह अरब जाकर कुछ कमाए और घर का कर्ज चुका सके। तौसीफ ने आरोप लगाया कि पुलिस बेकसूर नौजवानों को जेल भेजकर उनका भविष्य खराब कर रही है।

तौसीफ ने बताया कि जेल में अपराधियों के बीच रखने से वह रात-रात भर रोता था। परिवार वाले उसकी रिहाई के लिए कानूनी लड़ाई लड़ रहे थे। इस दौरान घर की सारी आमदनी बंद हो गई और परिवार भुखों मरने की कगार पर पहुंच गया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मध्यप्रदेश में पुलिस टीम की फायरिंग, आरोपियों को सरेआम पुलिस डंडे मारती ले गई; देखें वीडियो
2 बिहार विधानसभा के अध्यक्ष बने विजय सिन्हा, प्रोटेम स्पीकर से बोले तेजस्वी बोले-अब आपके आसन के सामने चोरी हो रही है
3 दिल्ली के श्मशान घाट पर अंतिम संस्कार के लिए नहीं मिल रही जगह? वीडियो में हाथ जोड़ मिन्नते कर रहे दिखे लोग; SGPC के मनजिंदर ने केजरीवाल को घेरा
यह पढ़ा क्या?
X