ताज़ा खबर
 

इकतरफा प्यार में भाजपा युवा मोर्चा नेता ने दी थी जान, परिवार ने लिया ये साहसिक फैसला

अतुल के घरवालों का कहना है कि मेरा लाडला बड़ा दिलवाला था। हमारे अतुल का शरीर भले ही नहीं रहेगा, लेकिन वह कई लोगों में जिंदा रहकर न रहते हुए भी हमारे आसपास रहेगा।

अतुल लाेखंडे Photo courtesy: facebook

मध्यप्रदेश के भोपाल में भाजयुमो के नेता अतुल लोखंडे ने अपनी प्रेमिका के घर के सामने खुद को गोली मार ली थी। गंभीर हालत में उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया था, जहां डॉक्टरों ने गुरुवार की देर रात उन्हें ब्रेन डेड घोषित कर दिया। इस घटना से अतुल के घरवाले काफी सदमे में आ गए। इसके बावजूद ऐसा कदम उठाया, जिसकी तारीफ सभी लोग कर रहे हैं। अतुल के घरवालों ने उनके अंगों को दान करने की अनुमति दे दी। परिजनों की अनुमति मिलने के बाद शुक्रवार सुबह ग्रीन कॉरिडोर बनाकर अतुल के दिल को दिल्ली एम्स भेजा गया। वहीं, लिवर बंसल हॉस्पिटल, एक किडनी सिद्धांता और एक चिरायू अस्पताल भेजी गई।

अतुल के परिजनों को अभी भी यह विश्वास नहीं हो रहा है कि उसने खुद को गोली मार ली। उन्होंने यह भी कहा कि हमारा बेटा चार लोगों के सामने खुद को कैसी गोली मार सकता है? अतुल का अंतिम संस्कार शनिवार के दिन किया जाएगा। दरअसल, मंगलवार की रात एकतरफा प्रेम-प्रसंग में अतुल लोखंडे ने प्रेमिका के घर में खुद की कनपटी पर गोली मार ली थी।

भोपाल के शिवाजी नगर में रहने वाले अतुल (27) परिवार में सबसे छोटे सदस्य थे। उनके बड़े भाई मुकुल भाजयुमो में अरेरा मंडल में महामंत्री हैं। सबसे बड़े बहन नम्रता की शादी भोपाल में हो चुकी है। मां सुनंदा लोखंडे नगरीय प्रशासन विभाग में सहायक ग्रेड-1 के पद पर हैं। सुनंदा ने बताया कि घटना के बाद जब वह अस्पताल पहुंची थी, तभी डॉक्टर ने बता दिया था कि अतुल के दिमाग ने काम करना बंद कर दिया है। बेटे के साथ हुए हादसे ने तो उन्हें बुरी तरह तोड़ दिया, लेकिन घर लौटने के बाद बेटे द्वारा फेसबुक पर की गई अंतिम पोस्ट को ध्यान से पढ़ा। उसके पोस्ट ने ही परिवार को अंगदान करने की प्रेरणा दी। अतुल के घरवालों का कहना है कि मेरा लाडला बड़ा दिलवाला था। हमेशा के लिए हमें छोड़कर जाने से पहले उसने फेसबुक पर लिखा कि मैं ‘मरकर भी जिंदा रहूंगा’। हमारे अतुल का शरीर भले ही नहीं रहेगा, लेकिन वह कई लोगों में जिंदा (अंगदान कर) रहकर न रहते हुए भी हमारे आसपास रहेगा। इसके बाद फैसला किया गया कि उसके अंगों को दान कर दिया जाये।

घटना से कुछ देर पहले ये लिखा था फेसबुक पर: प्यार तो बहुत लोग करते हैं लेकिन मेरे जैसा प्यार कोई नहीं कर सकता, क्योंकि किसी के पास तू जो नहीं हैं, मैं तुझे भूल नहीं सकता…, सच तो ये हैं मैं तुझे भूलना ही नहीं चाहता, क्योंकि तु मेरी हैं, मैं तुझे ज़िन्दगी भर प्यार करूंगा और मरते दम तक प्यार करूंगा और उसके बाद भी…। कोन तुझे यू प्यार करेगा जेसे मै करता हूँ…। दिल तो देते हैं आशिक़ सभी जान मोहब्बत मैं दे दूँगा मैं।

13 वर्षों से चल रहा था प्रेम प्रसंग: भाजयुमो नेता अतुल और जल संसाधन विभाग के एक अफसर की बेटी के बीच करीब 13 वर्षों से प्रेम-प्रसंग चल रहा था। लेकिन इधर कुछ दिनों से लड़की के पिता ने दोनों के मिलने पर रोक लगा दी थी।

न सुनते ही निकाल ली थी पिस्टल: घटनास्थल पर मौजूद और आसपास रहने वाले लोगों के मुताबिक, अतुल रात करीब सवा नौ बजे अपने मामा के साथ आल्टो कार से शिवाजी नगर पहुंचा। यहां उसने युवती के घर के दरवाजे पर ही उसके पिता से शादी को लेकर बात की। इस दौरान युवती भी मौजूद थी। बातचीत के दौरान हल्की नोकझोंक हुई। इसके बाद युवती के पिता ने शादी से इंकार कर दिया। यह सुनते ही उसने पिस्टल निकाल खुद को गोली मार ली थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App