Explanation of Assocham: Finding Your 'Valentine' Young People Supporting Dating App - एसोचैम का खुलासा: अपना ‘वैलेंटाइन’ ढूंढने डेटिंग ऐप्स का सहारा ले रहे युवा - Jansatta
ताज़ा खबर
 

एसोचैम का खुलासा: अपना ‘वैलेंटाइन’ ढूंढने डेटिंग ऐप्स का सहारा ले रहे युवा

सर्वे के मुताबिक करीब 20 फीसद उत्तरदाताओं ने बताया है कि वे शादी से जुड़े ऐप्स का इस्तेमाल कर रहे हैं, क्योंकि वे जीवन भर का साथ चाहते हैं। वहीं, दस फीसद लोगों का कहना है कि वे डेटिंग के अलावा सामाजिक संपर्क के लिए मैच-मेकिंग ऐप्स का प्रयोग करते हैं।

Author February 14, 2018 2:46 AM
भविष्य में डेंटिंग ऐप्स की लोकप्रियता और बढ़ने की संभावना है, क्योंकि वे प्रयोगकर्ताओं को दूसरों से मुलाकात करने के ज्यादा विकल्प और मौके उपलब्ध कराते हैं।(FILE PHOTO)

देश-दुनिया में ‘वैलेंटाइन डे’ की तैयारियों के बीच उद्योग मंडल (एसोचैम) के ताजा सर्वे के मुताबिक अब बड़े शहरों के अविवाहित युवा अपने साथी की तलाश के लिए मोबाइल डेटिंग एप्लीकेशन और सोशल मीडिया का सहारा ले रहे हैं। एसोचैम की सोशल मीडिया शाखा ने एक जनवरी से 10 फरवरी के बीच देश के 10 बड़े नगरों मुंबई, कोलकाता, दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, अहमदाबाद, बंगलुरु, चंडीगढ़, चेन्नई, हैदराबाद और इंदौर में 20 से 30 वर्ष आयु के 1500 लोगों के बीच सर्वे किया। इनमें से 55 प्रतिशत लोगों ने माना कि उन्होंने डेटिंग, अर्थपूर्ण रिश्ते बढ़ाने और परंपरागत रवायतों से बाहर निकल कर संपर्क बढ़ाने के लिए डेटिंग ऐप्स का इस्तेमाल किया है।

एसोचैम के राष्ट्रीय महासचिव डीएस रावत ने सर्वे का जिक्र करते हुए कहा कि हम तेजी से बदलते दौर से गुजर रहे हैं। आज का युवा अपने फैसले खुद ले रहा है। चाहे वह कॅरिअर हो, वित्तीय आजादी हो या फिर रिश्ते। ऐसे में यह ताज्जुब की बात नहीं है कि नौजवान अपना जीवनसाथी चुनने जैसे बेहद अहम काम के लिये भी प्रौद्योगिकी के मंच का इस्तेमाल कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि निकट भविष्य में डेंटिंग ऐप्स की लोकप्रियता और बढ़ने की संभावना है, क्योंकि वे प्रयोगकर्ताओं को दूसरों से मुलाकात करने के ज्यादा विकल्प और मौके उपलब्ध कराते हैं। साथ ही भविष्य में उनसे ऑनलाइन संपर्क में रहने का अवसर भी देते हैं। रावत ने कहा कि हालांकि अभी यह शुरुआती दौर है लेकिन देश में युवाओं की संख्या बढ़ने के साथ ही और ज्यादा लोग ऑनलाइन डेटिंग को चुनेंगे। इसकी वजह से जल्द ही इसका कारोबार करोड़ों रुपए में पहुंच जाएगा।

सर्वे के मुताबिक करीब 20 फीसद उत्तरदाताओं ने बताया है कि वे शादी से जुड़े ऐप्स का इस्तेमाल कर रहे हैं, क्योंकि वे जीवन भर का साथ चाहते हैं। वहीं, दस फीसद लोगों का कहना है कि वे डेटिंग के अलावा सामाजिक संपर्क के लिए मैच-मेकिंग ऐप्स का प्रयोग करते हैं, जबकि बाकी लोगों ने ऐसे ऐप्स के बारे में जानकारी न होने की बात कही

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App