scorecardresearch

बहू ने पोती के यौन शोषण का लगाया आरोप, उत्तराखंड के पूर्व मंत्री पानी के टैंक पर चढ़े और मार ली खुद को गोली

नैनीताल के एसएसपी पंकज भट्ट का कहना है कि पूरे मामले के हर पहलू पर जांच की जा रही है। परिवार वालों से भी गहराई से पूछताछ की जा रही है।

rajendra bahuguna| Uttarakhand
उत्तराखंड के पूर्व मंत्री राजेंद्र बहुगुणा (Photo Source- Twitter/ @HRBahuguna)

उत्तराखंड के पूर्व मंत्री राजेंद्र बहुगुणा ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। राजेंद्र बहुगुणा पर उनकी बहू ने कुछ दिनों पहले पोती के यौन शोषण का आरोप लगाया था। उधर, राजेंद्र बहुगुणा के बेटे ने अपनी पत्नी के खिलाफ पिता को आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज कराया है।

59 साल के राजेंद्र बहुगुणा पर पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कराया गया था। पूर्व मंत्री बहुगुणा ने हल्द्वानी में अपने घर से आपातकालीन नंबर 112 पर पुलिस को फोन किया और उन्हें अपनी आत्महत्या की योजना के बारे में बताया। पुलिस के आने के बाद पड़ोसियों और गवाहों के सामने उन्होंने खुद को मार डाला।

मौक़े पर पहुंचकर पुलिस ने लाउडस्पीकर की मदद से बहुगुणा को समझाने की कोशिश की पर पूर्व मंत्री बार-बार पुलिस को बताते रहे कि वो बेगुनाह हैं। जिसके बाद बहुगुणा ने अपने सीने पर गोली मार ली और उनकी मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस उन्हें घायल अवस्था में एसटीएस लेकर पहुंची, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज: नैनीताल के सीनियर एसपी पंकज भट्ट ने बताया कि 59 साल के राजेंद्र बहुगुणा पर हाल ही में उनकी बहू ने पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कराया था। भट्ट ने कहा कि आत्महत्या की घटना हल्द्वानी के भगत सिंह कॉलोनी में बुधवार को हुई। वह अपनी बहू के आरोप से बहुत परेशान थे। पुलिस ने इस पूरे मामले मे राजेंद्र बहुगुणा की बहू , समधी और पड़ोसी के ख़िलाफ़ आत्महत्या के लिए उकसाने के लिए मुकदमा दर्ज किया है। राजेंद्र बहुगुणा के बेटे अजय की शिकायत पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है।

31 अक्टूबर को होने वाले थे रिटायर: गौरतलब है कि राजेंद्र बहुगुणा कांग्रेस से जुड़े हुए थे। रोडवेज संघ समेत कई अन्य संगठनों में भी वह उच्च पदों पर रहे। हल्द्वानी डिपो के वर्कशाप में वह सीनियर लिपिक के पद पर कार्यरत थे। 31 अक्टूबर 2022 को वह रिटायर होने वाले थे।बहुगुणा रोडवेज कर्मचारी रहते हुए पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के कार्यकाल में कांग्रेस में शामिल हुए थे। लंबे समय तक कांग्रेस में रहने के दौरान ही वह दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री रहे थे। हालांकि, बाद में उन्होंने भाजपा का दामन थाम लिया था।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट