ताज़ा खबर
 

हत्‍या के प्रयास मामले में पूर्व मंत्री गिरफ्तार, पुलिस ने थाने में की जमकर खातिरदारी!

समाजवादी पार्टी की सरकार में मंत्री रहे फारुख हसन को पुलिस ने सरूरपुर थाना क्षेत्र के पांचली गांव से गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद पूर्व मंत्री को जिले के लालकुर्ती थाना भेज दिया गया। थाने में वे आराम से टहलते दिखे।

हत्या का प्रयास मामले में पूर्व मंत्री फारुख हसन गिरफ्तार (Photo: Twitter@PiyushRaiTOI)

उत्तर प्रदेश के मेरठ में पुलिस ने हत्या के प्रयास के आरोप में फरार चल रहे समाजवादी पार्टी की सरकार में मंत्री रहे फारुख हसन को मंगलवार (11 सितंबर) की देर रात सरूरपुर थाना क्षेत्र के पांचली गांव से गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद पूर्व मंत्री को जिले के लालकुर्ती थाना भेज दिया गया। थाने में न तो उनके हाथ में हथकड़ी दिखी और न हीं उन्हें हाजत में रखा गया था। वे थाने में आराम से टहलते हुए नजर आए। पुलिस द्वारा मीडिया को उपलब्ध करवाए गए फोटो में दिख रहा है कि सफेद कुर्ता-पायजामा पहने फारुख थाने के प्रांगण में टहल रहे हैं। बता दें कि अदालत की ओर से पूर्व मंत्री के खिलाफ वारंट जारी किया गया था।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, मेरठ के लालकुर्ती थाना क्षेत्र में आठ साल पहले हुए जानलेवा हमले में समाजवादी पार्टी की सरकार में मंत्री रहे फारुक हसन को आरोपी बनाया गया था। लेकिन वे अब तक फरार चल रहे थे। उनके उपर कोर्ट से वारंट भी जारी हो गया था, लेकिन पुलिस उन्हें गिरफ्तार नहीं कर सकी। हत्या के प्रयास में आरोपी होने के बावजूद उन्हें वर्ष 2016 के मार्च महीने में हस्तशिल्प निगम में उपाध्यक्ष बनाया गया था। दो महीने पहले कोर्ट ने उनके कुर्की वारंट जारी किए थे। इसके बावजूद फारुक हसन पकड़ में नहीं आ रहे थे। लेकिन बीते मंगलवार को उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

फारुख हसन की गिरफ्तारी पर मेरठ पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि, “फारुख हसन के उपर हत्या के प्रयास के आरोप का मामला दर्ज था। वे लंबे समय से फरार चल रहे थे। कोर्ट द्वारा वारंट भी जारी कर दिया गया था। पुलिस भी उनकी गिरफ्तारी के प्रयास में लगी थी। इस बीच हमें गुप्त सूचना मिली कि वे अपने गांव में हैं। हम तत्काल अपनी टीम के साथ वहां पहुंचे और गिरफ्तार कर लिया।” वहीं, फारुख हसन ने कहा कि, “2010 में एक धरना-प्रदर्शन का मामला हुआ था, उसी मामले में मेरे खिलाफ एक वारंट जारी हुआ था, लेकिन पुलिस ने मुझे सूचना नहीं थी। अचानक मुझे आज गिरफ्तार कर लिया गया।”

Next Stories
1 8 साल से मजदूरों का 313 करोड़ रुपये दबाए बैठी है झारखंड सरकार, CAG ने खोली पोल
2 हार्दिक पटेल ने 19 दिनों के बाद तोड़ा अनशन, गुजरात सरकार ने नहीं मानी एक भी मांग
3 पूर्व आईपीएस को 10 दिन की रिमांड, पत्‍नी ने फेसबुक पोस्‍ट लिख जवाब में पढ़ी कविता
ये पढ़ा क्या?
X